WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

23 अक्टूबर, 2019

एक मजबूत घर बनाएं जो तेज हवा से भी कभी नहीं गिरता

— घर बनाने की सामग्रियां एक घर बनाने के लिए, सामग्रियां चाहिए। प्रेम, भरोसा, आदर, संवाद और कृतज्ञता, ये एक मजबूत घर बनाने के लिए अच्छी सामग्रियां हैं।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

एक घर जहां परिवार के सदस्य प्रेम और भरोसे के द्वारा एकता में रहते हैं, वह सबसे मजबूत घर है जो किसी भी तूफान का सामना कर सकता है।

चाहे किसी व्यक्ति के पास धन और प्रतिष्ठा हो, लेकिन यदि उसके पास प्रेमी परिवार न होता, तो उन सबका क्या लाभ होगा? चाहे वह समाज में सफल हो जाए, लेकिन यदि वह अपने परिवार की देखभाल न करे और उसे परिवार के द्वारा मान्यता न दी जाए, तो वह सच्ची खुशी को महसूस नहीं कर पाएगा। उसके विपरीत, वह व्यक्ति जिसकी पूरी दुनिया निंदा करती है, लेकिन यदि उसके पास अपना परिवार होता जो उस पर भरोसा करता है और उसे प्रोत्साहन देता है, तो वह निश्चय ही फिर खड़ा हो सकता है। क्योंकि परिवार ही उसे समर्थन देने वाली एक मजबूत धुरी के समान है।

कोरिया में एक पुरानी कहावत है, “परिवार जब खुश रहता है, तो सब कुछ अच्छा होगा।” यह केवल पुराने समय के लिए नहीं परन्तु इस समय के लिए भी लागू होता है। बहुत से कोरियाई परिवार आज भी इस कहावत को अपने परिवार का आदर्श बनाकर रखते हैं, लेकिन उन में से बहुतों को यह नहीं पता है कि एक सामंजस्यपूर्ण और मजबूत परिवार बनाने के लिए उन्हें क्या करना चाहिए। इसी कारण वे अपने परिवार के साथ होने के बावजूद अकेलापन महसूस करते हैं, और कुछ परिवार तो टूट रहे हैं।

दुरंगा परिवार

एक कंपनी ने एक कार्यक्रम में सार्वजनिक भागीदारी आमंत्रित की थीं और उन्हें रिक्त स्थान की पूर्ति करने को कहा: “परिवार ( ) है।” 1,00,000 से ज्यादा लोगों ने इस कार्यक्रम में अपनी राय बताई, और उनके उत्तर इस प्रकार थे; “परिवार कपड़ों की पिन है जो हवा चलने पर कपड़ों को थामे रखती है,” “परिवार चार बुनियादी अंकगणितीय आपरेशन है क्योंकि वह खुशियों को जोड़ता है, दुखों को घटाता है, भविष्य को द्विगुणित करता है और कठिनाइयों को बांट देता है,” “परिवार एक इस्तरी है जो सिलवटों को सीधा कर देता है,” “परिवार बस का हैंडल है जिसे हम जीवन के मुश्किल रास्तों में थाम सकते हैं,” इत्यादि। ज्यादातर उत्तरों में आशा, प्रेम, खुशी, और शक्ति जैसे सकारात्मक संदेश थे। कई मामलों में, ज्यादातर क्रूर कैदियों ने बचपन में अपने परिवार से पर्याप्त प्रेम नहीं पाया, लेकिन जब परिवार की बात आती है, वे भी कहते हैं कि परिवार एक हार्दिक विश्राम स्थान है।

हालांकि, एक परिवार हमेशा प्रेम और खुशियों से भरा नहीं होता और वह न ही हमेशा आशा देता है। कुछ पति अपनी पत्नियों को बच्चों की परवरिश और घरेलू कामकाज अकेले ही करने देते हैं और उसमें कुछ भी मदद नहीं करते, और कुछ पत्नियां अपने पति का हौसला तोड़ देती हैं जब वे अपनी नौकरी खो देते हैं। कुछ माता-पिता अपने बच्चों को अपनी निजी वस्तुएं समझकर उन्हें नियंत्रित करने का प्रयास करते हैं, और कुछ बच्चे अपने माता-पिता को तुच्छ समझते हैं। कभी-कभी वे एक दूसरे की भावनाओं को चोट पहुंचाते हैं, दूसरों को निराश करते हैं, और एक दूसरे को भारी बोझ देते हैं।

यहां तक कि कुछ लोग परिवार होना ही नहीं चाहते। इन दिनों, बहुत से परिवार छोटी-छोटी बातों के लिए टूट जाते हैं और यहां तक कि एकल परिवार भी बिखर रहे हैं। जैसे जैसे अकेले रहने वाले वरिष्ठ नागरिकों और अकेले रहनेवाले गृहस्थों की संख्या विस्फोटक गति से बढ़ रही है, वैसे वैसे उसके कई दुष्प्रभाव भी सामने आ रहे हैं।

तब आशीष के साथ शुरू हुआ परिवार आखिर में दयनीयता से क्यों समाप्त होता है? इसका कारण है कि वे एक आदर्श परिवार की कल्पना करने के बावजूद भी उसके लिए पर्याप्त प्रयास नहीं करते। प्रयास के बिना कुछ भी प्राप्त नहीं किया जा सकता। और अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि केवल एक व्यक्ति के बलिदान या प्रयास के द्वारा कुछ भी पूरा नहीं किया जा सकता।

एक मजबूत घर बनाने की सामग्रियां

1. नींव: प्रेम

एक घर बनाते समय, सबसे बुनियादी और महत्वपूर्ण कार्य नींव डालना है। यदि नींव मजबूत नहीं है, तो एक ऐसा घर भी जिसे बनाने का बहुत ज्यादा प्रयास किया गया है, आसानी से गिर जाएगा। एक मजबूत परिवार के लिए सबसे बुनियादी आवश्यक चीज प्रेम है, और वह परिवार जिसकी नींव प्रेम पर रखी गई है, आसानी से नहीं गिरेगा।

प्रेम को कोई कीमत या शर्त नहीं चाहिए। यदि आप किसी को उसके कुछ खास व्यवहार या उपलब्धि के लिए प्रेम करें, तो आप उसके प्रति अपना सच्चा प्रेम जाहिर नहीं कर पाएंगे और आप इस बात से भी चिंतित रहेंगे कि वह उस शर्त को पूरा करने में विफल हो सकता है। अपने परिवार के सदस्यों को बिना शर्त स्वीकार करें, उन्हें वैसे अपनाएं जैसे वे हैं और उन्हें उनकी छिपी हुई क्षमताओं को बाहर निकालने में सहायता करें।

2. स्तंभ: भरोसा

जिस प्रकार स्तंभ एक मकान को सहारा देते हैं, वैसे ही भरोसा एक परिवार को सहारा देता है। पति-पत्नी के बीच जो एक दूसरे पर भरोसा नहीं करते, या माता-पिता और सन्तान के बीच जिनका भरोसा टूट गया है, प्रेम नहीं हो सकता; क्योंकि वे किसी भी काम के लिए एक दूसरे पर निर्भर नहीं हो सकते। एक व्यक्ति उसी तरह कार्य करता है जिस तरह उस पर भरोसा किया जाता है। जब चीजें उसकी मर्जी के अनुसार नहीं होतीं या जब वह किसी मुसीबत में होता है, तो इस तथ्य से बढ़कर उसे शक्ति देने योग्य बात और क्या होगी कि उसके पास अपना परिवार है जो उस पर भरोसा करता है?

भरोसा करना जरूरी है, लेकिन भरोसा देना और भी महत्वपूर्ण है। अपने दैनिक जीवन में दूसरों के प्रति व्यवहार के द्वारा भरोसा बनाया जा सकता है। भरोसा देने का सबसे निश्चित तरीका यह है कि अपने शब्दों के अनुसार काम करना। यदि किसी के कार्य और शब्द मेल नहीं खाते, तो उसके परिवार के सदस्य भी उस पर भरोसा नहीं करेंगे।

3. दरवाजा: सम्मान

सम्मान दरवाजे के समान है। जिस प्रकार लोग दरवाजे के माध्यम से अंदर और बाहर जाते हैं, परिवार के सदस्य को भावनाओं का साझा करने और एक दूसरे को समझने के लिए एक दूसरे का सम्मान करना चाहिए। यदि कोई व्यक्ति दूसरों का सम्मान न करे लेकिन ऐसा सोचे कि सभी को उसका पालन करना चाहिए, तो वह दूसरों से आज्ञा पालन करने को कहकर उन्हें नियंत्रित करने की कोशिश करता है; और जब वे उसकी मर्जी के अनुसार नहीं कर सकते, तो वह क्रोधित और निराश हो जाएगा। इसी कारण से कुछ माता-पिता अपनी सन्तानों से निराश होकर उनसे कहते हैं, “तुम जानते हो कि तुम्हें बड़ा करने के लिए मैंने कितनी मेहनत की है?” या एक पति या पत्नी कहती है, “वह मेरे हाथ में है,” या “मैं उसके हाथ में हूं।”

जब आप दूसरों के विचार को सुनते और उन चीजों में रुचि रखते हैं जिन्हें वे बहुमूल्य मानते हैं, तो इसका सीधा अर्थ यह है कि आप उनका सम्मान करते हैं।

4. खिड़की: बातचीत

एक बिना खिड़की के घर की कल्पना कीजिए। क्या वह दम घोंटनेवाला नहीं होगा? एक परिवार जो बातचीत नहीं करता वह उस घर के समान है जहां खिड़की नहीं है। जिस प्रकार बाहर की दुनिया से संपर्क बनाने के लिए खिड़की अनिवार्य है, वैसे ही परिवार के सदस्यों के मध्य बातचीत होना अनिवार्य है। बातचीत करने के महत्व को चाहे हम कितना भी बताएं, यह कम ही होगा। ऐसा कुछ भी नहीं जिसका समाधान बातचीत के द्वारा न हो सके। किसी ने कहा है कि परिवार के सदस्यों के साथ बातचीत करने का अर्थ सामने वाले व्यक्ति के जूते पहनकर संसार को देखना है। अपने आपको सामने वाले व्यक्ति की स्थिति में रखने से अच्छा और कुछ नहीं हो सकता।

टीवी और स्मार्टफोन सबसे बड़े शत्रु हैं जो परिवार के सदस्यों के बीच की बातचीत को बंद कर देते हैं। यदि आप सोचते हैं कि साथ मिलकर टीवी देखने से एकता की भावना बढ़ती है तो आप बड़ी गलतफहमी में हैं। टीवी देखने या स्मार्टफोन का उपयोग करने का समय कम कीजिए, और अपने परिवार के प्रति अपनी आंखें और अपने कान खोलिए।

5. छत: धन्यवाद देना

घर के ऊपर छत होती है। वह बर्फ, बारिश, धूप, और हवा को रोकती है, और वह घर को गर्म रखती है। चाहे कोई घर बाहर से शोभायमान दिखता हो, लेकिन एक छत के बिना, आप वहां आराम से नहीं रह सकते। धन्यवाद एक छत की तरह है जो प्रत्येक सदस्य की गलतियों को ढकती है और परिवार को उत्साहपूर्ण बनाती है। परिवार के सदस्य जितना अधिक एक दूसरे के प्रति धन्यवाद व्यक्त करते हैं, उतना अधिक वह परिवार खुश होता है। लेकिन इसके विपरीत, यदि वे शिकायत और असंतोष से भरे हुए हों, तो ठीक जैसे एक बिना छत के घर में पानी टपकता है और तेज हवा चलती है, वे आने वाली मुसीबतों से सुरक्षित न होकर जल्द ही उजड़ जाएंगे।

शेक्सपीयर ने कहा था, “भीषण बर्फीला तूफान भी उतना ठंडा नहीं होता, जितना धन्यवाद न करने वाले व्यक्ति का मन ठंडा होता है।” एक स्नेही परिवार जो निरंतर धन्यवाद से भरा रहता है, वह एक मजबूत और स्वस्थ परिवार है।

जब एक मजबूत घर अपना सही गुण प्रकट करता है

दुनिया में ऐसा कोई परिवार नहीं है जहां समस्या न हो। परिवार के सदस्य कम होने का अर्थ यह नहीं कि वहां चिन्ताएं और तकरारें भी कम हैं। यहां महत्वपूर्ण बात यह है कि उनसे कैसे उबर पाएं। कुछ परिवार कुछ परेशानियों या दुर्भाग्य के सामने आसानी से डगमगा जाता है, और कुछ अन्य परिवार किसी भी प्रकार की परेशानियों को आसानी से पार करता है। यदि परिवार के सभी सदस्य यह समझ लें कि एक परिवार होना उनके लिए एक सौभाग्य बात है, और साथ मिलकर चीजों को पार करने का प्रयास करें, तो वे समझदारी से मुश्किल समय को पार कर सकते हैं, और वह उनके लिए एक खुश परिवार बनाने का एक नया मोड़ बन सकता है।

ठीक जैसे तेज तूफान के आने पर ही एक मजबूत घर अपना सही गुण प्रकट करता है, एक मजबूत परिवार भी केवल मुसीबत के समय में ही अपना सही गुण प्रकट करता है। परिवार के सदस्यों के बीच कुछ विवाद या परेशानी होने पर चिंतित या निराश न हो जाइए। वह आपके परिवार से और ज्यादा प्रेम करने का एक मौका है।

एक पिता ने चल या बोल न सकने वाले, अपने बेटे के सपने को पूरा करने के लिए, आयरनमैन ट्रायथलॉन की चुनौती को स्वीकार किया। उसने एक हवावाली नाव में अपने बेटे को बिठाकर, उसे खींचते हुए 3.9 किलोमीटर की तैराकी की, 180 किलोमीटर तक साइकिल चलाई, और 42.195 किलोमीटर की मैराथोन दौड़ पूरी की। उसने यह केवल एक बार नहीं, बल्कि छह बार किया। पुत्र ने कहा कि वह अपने पिता के बगैर वह कभी नहीं कर पाया होता, लेकिन उसके पिता ने अपने बेटे से कहा,

“बेटे, तुम्हारे बिना, मैंने यह नहीं किया होता।”

इस किस्से के द्वारा, हम जान सकते हैं कि एक परिवार की शक्ति कितनी महान होती है।

योहान वुल्फगांग फान गेटे ने कहा है, “चाहे राजा हो या किसान, वह सबसे ज्यादा सुखी है जिसको अपने घर में शांति प्राप्त होती है।” क्यों न आप अपने परिवार के सभी सदस्य साथ मिलकर अच्छी सामग्रियों से एक मजबूत घर बनाएं जो तेज हवाओं के सामने भी न गिर जाएगा? यदि आप ऐसा करें, तो खुशी उमड़ेगी।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS