WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

एक उत्तम पालना

342 देखे जाने की संख्या

अरस्तु ने सोचा, ‘मां पक्षी के पेट में अंडा नरम होता है लेकिन जब वह बाहर आकर हवा के संपर्क में आता है तो ठोस हो जाता है, ताकि अंडे देते समय यह मां के लिए कम दर्दनाक हो जाए।’ लेकिन अपनी मां के पेट के अंदर भी वह अंडा कठोर अंडे के छिलके से ढका होता है।

अंडे का छिलका, मां पक्षी के वजन को सहन करने के लिए काफी ठोस होता है, लेकिन यह काफी नरम भी होता है कि शिशु पक्षी इसे तोड़कर बाहर आ सके। अंडे के छिलके का मुख्य घटक कैल्शियम कार्बोनेट होता है। जब अंडे के बनने का समय आता है, तो मां पक्षी अपने मूल प्रवृत्ति के अनुसार कैल्शियम से बने भोजन की खोज करती है। महीन छेद(वायु छिद्र) जो पूरे अंडे पर होते हैं, भ्रूण को सांस लेने के लिए ऑक्सीजन को अंडे के अंदर जाने देते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड का निर्वहन करते हैं, जिससे कीटाणुओं को अंदर जाने से रोका जा सकता है। भ्रूण के बढ़ने के दौरान अंडे के अंदर पानी बनता है। फिर भ्रूण को घुटन से बचाने के लिए महीन छेद भाप छोड़ते हैं।

इसी तरह, अंडे का छिलका देखने में साधारण लगता है, लेकिन वास्तविकता में, वे बहुत जटिल होते हैं। चाहे वे ठंडे, गर्म, नम या सूखे क्षेत्रों में रहते हों या चाहे वे गर्म घोंसले में हों या पथरीली चट्टानों पर रखे हुए हों, अंडे का छिलका विभिन्न वातावरणों में सर्वश्रेष्ठ कार्य के साथ भ्रूण की रक्षा करते हैं, अंडे का छिल्का मां पक्षियों में बनाया गया एक उत्तम पालना है।