WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

विश्वास और जीवन

माता की शिक्षा

स्वर्गीय माता की तेरह शिक्षाएं। हम प्रेम की शिक्षाओं से स्वर्गीय चरित्र सीखते हैं।

माता की शिक्षाओं में से पहली शिक्षा

"प्यार पाने से प्यार देने में ज्यादा आशीष है, जैसे परमेश्वर हमेशा प्यार देते हैं।"

ऐसा एक पल भी नहीं जिसमें परमेश्वर हमसे प्यार नहीं करते। जब हम स्वर्ग में स्वर्गदूत थे, तब परमेश्वर ने हमेशा प्यार से हमारा लालन पालन किया। यहां तक कि जब हम स्वर्ग में गंभीर पाप करके इस पृथ्वी पर गिरा दिए गए, हमारे पापों की क्षमा करने के लिए…

माता की शिक्षाओं में से दूसरी शिक्षा

"जब हम परमेश्वर को महिमा देते हैं, महिमा हमारे पास लौट आती है।"

जब हम प्रचुर फल वाले एक वृक्ष को देखते हैं, तब हम केवल फल और डालियां जैसे दृश्य हिस्सों पर ध्यान केंद्रित करते हैं और जड़ों की उपेक्षा करते हैं। परन्तु, जड़ों की भूमिका अत्यंत आवश्यक है; वे जब तक वृक्ष अच्छा फल नहीं फलता तब तक पानी और पोषण…

माता की शिक्षाओं में से तीसरी शिक्षा

"सुंदर मन में कोई घृणा नहीं होती और वह एक संपूर्ण प्रेम को जन्म देता है।"

संसार में कोई भी संपूर्ण नहीं है क्योंकि हम सब पापी हैं। प्रत्येक में खूबियां और कमियां हैं। चाहे किसी का चरित्र कितना भी अच्छा क्यों न लगता हो, उसमें कुछ कमियां होती हैं, और चाहे किसी का चरित्र कितना भी दोषपूर्ण क्यों न लगता हो, उसमें कुछ खूबियां होती…