WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

मां की पालन-पोषण की डायरी

उजॉन्गबू, कोरिया से किम ह्यन-जी

313 देखे जाने की संख्या
FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

मेरे किशोरावस्था में, मां के साथ मनोवैज्ञानिक युद्ध करना मेरा रोज का काम हो गया था। हमेशा की तरह, मां ने मुझे डांटा और मैं जोर से दरवाजा पीटकर अपने कमरे में चली आई। मैं बड़बड़ाई कि मैं अब मां के साथ कभी बात नहीं करूंगी और मेज के सामने जाकर बैठ गई। मैंने पढ़ाई करने के लिए एक किताब खोली। जब भी मैं पढ़ाई करने की कोशिश करती थी, अजीब तरह से मैं अपने आसपास को साफ सुथरा रखना चाहती थी। इसलिए मैंने सफाई के बाद पढ़ाई करने का फैसला किया, और बुकशेल्फ पर किताबों को व्यवस्थित करना शुरू किया। फिर, मुझे एक पुरानी किताब मिली जो मैंने पहले कभी नहीं देखी थी। उसके कवर पर ‘पालन-पोषण की डायरी’ लिखा हुआ था। वह मां की पालन-पोषण की डायरी थी।

मैं अपने बचपन की कहानियों को लेकर उत्सुक हो गई। दूसरी ओर, मैं इस विचार से थोड़ा घबरा गई कि मैं मां की पालन-पोषण की डायरी में झांक रही हूं। मैंने सावधानी से पहला पन्ना खोला, और मां की आशा देखी कि मैं स्वस्थ रूप से पैदा हो जाऊं और मैं अपने पिता के चरित्र के सदृश बनूं; यह सब मेरे जन्म से भी पहले लिखा गया था। क्या इसलिए मैं केवल पिता के चरित्र ही नहीं बल्कि उनके रूप के भी सदृश हूं?

मेरे जन्म के बाद, उसने विस्तार से लिखा कि मैं कब सो गई, मैंने क्या खाया, मैंने कब पलटना शुरू किया और ऐसी बहुत सारी बातें। चूंकि मैं आमतौर पर सुबह में सोती थी और रात को जगती रहती, तो मेरी मां ने भी ऐसा ही किया। उस हिस्से को पढ़ते हुए, मुझे उसके प्रति खेद महसूस हुआ। लेकिन उस पालन-पोषण की डायरी में, बल्कि मां को मेरे प्रति खेद महसूस हुआ। जिस दिन मुझे जुकाम हुआ, उस दिन उसे खेद हुआ, क्योंकि उसने सोचा कि उसके अच्छे से मेरी देखभाल न करने के कारण मुझे जुकाम हुआ। जिस दिन मैं पूरा दिन रो रही थी, उसे खेद महसूस हुआ, क्योंकि उसने सोचा कि उसे नहीं पता था कि अपनी बच्ची को क्या चाहिए। चाहे मैं अच्छे से न खाऊं या बीमार रहूं, वह सारा दोष अपने आप पर ले लेती थी।

अब मुझे मां अलग दिख रही थी। जब वह जवान थी तो उसके लिए एक बच्चे को बड़ा करते हुए सब कुछ कठिन और अपरिचित रहा होगा। लेकिन उसने कभी नहीं कहा कि वह थकी हुई, बल्कि मेरी स्थितियों के अनुसार वह खुशी या दुःख से भरी रहती थी। मुझे अपने आप पर शर्म महसूस हुई कि मैं अपने किशोरावस्था में होने के कारण अब तक उसके साथ बिना सोचे समझे व्यवहार कर रही थी। मुझे ऐसा लगता था कि चूंकि वह मेरी मां है, तो चाहे मैं कुछ भी करूं उसे वह सही लगना चाहिए और उसे मेरे लिए हर मुश्किल काम करना चाहिए। उस तरह के विचार के साथ अपने द्वारा उसे कहे गए हर एक शब्द और उसके साथ किए गए हर व्यवहार को लेकर मैंने पछतावा किया।

उस दिन के बाद, मेरा किशोरावस्था थोड़ा-थोड़ा करके समाप्त हो गया। मैं थोड़ा सा अपनी मां को समझ पाई और मेरे मन में उसकी मदद करने की इच्छा हुई। चूंकि मेरा विद्रोही रूप एक ही पल में गायब नहीं हुआ था, तो मैं उसके प्रति असंतोष प्रकट करती और उसकी उपेक्षा करती थी। लेकिन उसकी पालन-पोषण की डायरी फिर से पढ़कर, मैंने तुरंत अपने बर्ताव के लिए पछताया और ऐसा दोबारा न करने का अपना मन बना लिया।

अगले साल, मैं उन्नीस साल की हो जाऊंगी। एक वयस्क के रूप में, मैं अब और एक बच्चे की तरह पेश नहीं करूंगी बल्कि एक वयस्क की तरह रहूंगी। मैंने अपना दृढ़ संकल्प दिखा दिया है, और मां कहती है कि चाहे मैं कितनी भी एक वयस्क की तरह रहूं, मैं फिर भी उसके लिए एक बच्ची ही रहूंगी। यह बात तो सच है कि चाहे बच्चे कितने भी बड़े क्यों न हो जाएं, वे सभी अपनी माताओं के नजरों में अभी भी बच्चे ही हैं।

एक दिन, स्कूल में चीनी लेखन कक्षा में, “मेरा नंबर 1 खजाना” के बारे में एक प्रस्तुति देने का समय था। मैंने “मां की पालन-पोषण की डायरी” लिख दी। यह कुछ ऐसी चीज है जिसे मैं किसी भी कीमत पर नहीं बेच सकती। यह मेरा नंबर 1 खजाना है जो मेरी मां के प्यार से भरी है! मैं इसे आज फिर से पढ़ूंगी।