WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

तेरा विश्वास बड़ा है

मत 15:21–28(मर 7:24–30 संदर्भ)

733 देखे जाने की संख्या

जब यीशु सूर और सैदा के प्रदेश में आया, एक अन्यजाति स्त्री यीशु के पांवों के पास गिरी और ऊंची आवाज से चिल्लाकर कहा।

“हे प्रभु! दाऊद की सन्तान, मुझ पर दया कीजिए! मेरी बेटी को दुष्टात्मा बहुत सता रहा है। दुष्टात्मा को बाहर निकाल दीजिए।”

यीशु ने उससे एक शब्द भी नहीं कहा। जब चेलों ने आकर उनसे स्त्री को विदा करने के लिए विनती की, तब यीशु ने अपना मुंह खोला और जवाब दिया।

“मैं केवल इस्राएल के लोगों के लिए जो खोई हुई भेड़ों के समान हैं, भेजा गया।”

तब उस स्त्री ने फिर से यीशु के सामने झुककर विनती की। लेकिन, यीशु ने दृढ़ता से कहा।

“लड़कों की रोटी लेकर कुत्तों के आगे डालना उचित नहीं।”

“सच है प्रभु, पर कुत्ते भी वह चूरचार खाते हैं, जो अपने स्वामियों की मेज से गिरते हैं।”

यीशु उस स्त्री का रवैया देखकर प्रभावित हुए क्योंकि स्त्री ने यीशु से कठोर शब्द सुनकर भी हार नहीं मानी।

“हे स्त्री, तेरा विश्वास बड़ा है। जैसा तू चाहती है, तेरे लिये वैसा ही हो!”

और तत्काल उसकी बेटी से दुष्टात्मा निकल गई।

जब आपको कठोर तरीके से इनकार किया जाता है या आप कठोर शब्द सुनते हैं, तो आप आहत और उदासी महसूस करेंगे। लेकिन कनानी स्त्री अलग थी।

उसने अपनी बेटी के बारे में सोचते हुए जो दुष्टात्मा के कारण दुख का सामना कर रही है, उत्सुकता से विनती की।

यदि हम एक आत्मा की उद्धार की ओर अगुवाई करना चाहते हैं, तो हमें कनानी स्त्री को याद करने की जरूरत है जिसने परमेश्वर को प्रभावित किया। यदि एक मर रही आत्मा को बचाने की उत्सुकता आपके आत्मसम्मान से बड़ी है, तो परमेश्वर आपकी सराहना करेंगे और जो कुछ आप चाहते हैं, वह पूरा कर देंगे।

“तेरा विश्वास बड़ा है। जैसा तू चाहती है, तेरे लिये वैसा ही हो!”