WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

युवक अबशालोम के प्रति उदार रहना

2शमूएल का 18वां अध्याय

640 देखे जाने की संख्या

दाऊद के पुत्र अबशालोम ने राजद्रोह की साजिश रची; उसने दाऊदपुर ले लिया और हाकिमों के साथ अपने पिता को मारने की योजना बनाई।

उस बीच, दाऊद ने राज्य को फिर व्यवस्थित करने के लिए अपने सैनिकों को भेजा। जब सब सैनिक निकलने लगे, दाऊद ने द्वार की बगल में खड़ा रहकर सब प्रधानों को आज्ञा दी,

“मेरे लिए यह करो, युवक अबशालोम के प्रति उदार रहना।”

एप्रैम नामक वन में हुआ युद्ध भयंकर था। अबशालोम के अनुयायी दाऊद के सैनिकों से बुरी तरह हार गए, और अबशालोम दाऊद के जन योआब के भाले से मारा गया।

यह समाचार सुनकर राजा बहुत घबराया। और फाटक के ऊपर की अटारी पर रोता हुआ चढ़ने लगा; और चलते चलते यों कहता गया, “हाय मेरे बेटे अबशालोम! मेरे बेटे, हाय! मेरे बेटे अबशालोम! भला होता कि मैं आप तेरे बदले मरता, हाय! अबशालोम! मेरे बेटे, मेरे बेटे!!”

अबशालोम एक राजद्रोही था। वह एक अनैतिक बेटा था जिसने अपने पिता का सिंहासन छीन लिया और हर मौके पर अपने पिता की पीठ पर छुरा भोंकने की कोशिश की। फिर भी, दाऊद ने उसे ‘युवक अबशालोम’ कहते हुए प्रधानों को आज्ञा दी कि उसके प्रति उदार रहें। दाऊद ने आशा की कि उसका बेटा अपने अविवेकपूर्ण कामों से पश्चाताप करे और अपने पिता की बांहों में वापस आए, लेकिन अबशालोम की मृत्यु हो गई। समाचार सुनकर, दाऊद ने विलाप किया, “मैं चाहता हूं कि मैं तुम्हारे लिए मर गया होता।” अबशालोम ने अपने पापों की कीमत चुकाई, लेकिन दाऊद ने अपने बेटे की मौत पर यह कहकर विलाप किया कि वह अपने बेटे के बदले नहीं मर सका।

दुनिया में, एक बात है जो तर्क के खिलाफ जाती है, वह उस पिता का प्रेम है जो अपने बेटे से, जिसने उसे मार डालना चाहा, अपने प्राण से भी ज्यादा प्रेम करता है।