WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

16 अक्टूबर, 2020

सत्य बोलना

58 Views
FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

अमेरिका के बहुत से मशहूर अस्पतालों ने “सत्य बोलना” कार्यक्रम को लागू किया है। “सत्य बोलना” कार्यक्रम चिकित्सीय त्रुटियों के लिए ईजाद किया गया था; जब कोई चिकित्सीय त्रुटि होती है, तो चिकित्सीय दल मरीज के परिवार को मिलता है, उन्हें यह वादा करता है कि वे तहकीकात में ईमानदार रहेंगे, मरीज के परिवार को सांत्वना देते हैं, और उन्हें सहानुभूति दिखाते हैं। यदि स्पष्ट तककीकात के माध्यम से चिकित्सीय दल को दोषी पाया जाता है, तो दल ईमानदारी से क्षमा मांगता है और एक योग्य क्षतिपूर्ति का सुझाव देता है। आसान भाषा में कहें, तो यह एक गलती को स्वीकार करना और उसके लिए क्षमा मांगना है।

ऐसा कहा जाता है कि चाहे चिकित्सीय दल को दोषी न पाया गया हो, मरीज के परिवार को कम दर्द महसूस होता है, क्योंकि दल ने उनके प्रति प्रयास और परवाह दिखाई है। जिन अस्पतालों ने इस कार्यक्रम को लागू किया है, उन्होंने बताया है कि चिकित्सीय कदाचार के मुकदमों की संख्या में आधे से ज्यादा गिरावट आई है।

गलती किसी से भी हो सकती है। महत्व की बात यह है कि उसे कैसे संभालना है। जब एक व्यक्ति गलती करता है, परन्तु वह उसे स्वीकार करने के बदले जोर-जोर से बातें करता है या उसे छिपाने की कोशिश करता है या सही ढंग से क्षमा मांगने के बदले उसके लिए बहाना बनाता है, तब उससे झगड़ा होता है। क्षमा मांगना कोई हारे हुए व्यक्ति के लिए नहीं है। व्यक्ति जो क्षमा मांगना अति अनिवार्य होने पर भी क्षमा मांगने के मौके को गंवा देता है, वह सचमें एक हारा हुआ व्यक्ति है।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS