WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

29 जून, 2020

सेब के खेत में

डेगू, कोरिया से इ सांग ह्वा

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

जब भी कटनी का समय आता है, किसानों को अधिक मददगार हाथों की जरूरत होती है। वे इतने व्यस्त होते हैं कि कोरियाई लोग इस समय की स्थिति का वर्णन इस प्रकार करते हैं, “कुरेदनी के पास भी जो भट्ठे की आग कुरेदने का काम आता है, जमीन पर लेटने का समय नहीं रह जाता।” लेकिन हमेशा खेतों में काम करने वाले मजदूरों की कमी होती है।

किसानों के लिए खेद महसूस करते हुए, रविवार के अवकाश के दिन सुहावने मौसम में सिय्योन के भाई-बहनें खेत में स्वयंसेवा करने के लिए एक साथ इकट्ठे हुए। हम ग्यंगबुक प्रांत के यंगजु में स्थित एक सेब के खेत में गए। खेत ने अच्छी तरह पके हुए लाल रंग के सेबों के साथ बहुत रमणीय दृश्य बनाया।

पहले, खेत के मालिक ने हमें बताया कि हमें क्या करना है। उसने बताया कि सेब तोड़ते समय हमें किस-किस बात का ध्यान रखना है और उन्हें कैसे बक्से में रखना है। उसने बार-बार जोर दिया कि सेब की फसल को बक्से में रखने का आखिरी कार्य सबसे महत्वपूर्ण है।

उसने कहा कि हमें बक्से में सेबों को न तो फेंकना चाहिए और न ही दबाना चाहिए, और हमसे बार-बार यह आग्रह करता रहा कि नीचे जमीन पर गिरे सेबों को उठाकर बक्से में बिल्कुल न डालें। इसका कारण यह है कि भले ही वे बाहर से अच्छे दिखते हैं और उनमें कोई दरार नहीं है, लेकिन वे अंदर से कुचले और सड़े होते हैं।

सावधानियों को ध्यान से सुनकर हमने सेब की फसल की कटाई करना शुरू किया। दो-तीन मीटर ऊंचे पेड़ों पर लटके सेब बहुत लुभावने दिख रहे थे। चूंकि सेब के पेड़ को देखना मेरे लिए पहली बार था, मैं छोटी और पतली शाखाओं पर लटके हुए बहुत से सेबों को देखकर रोमांचित हुई।

सेब के खेत में जमीन पर जगह-जगह चांदी पन्नी बिखरी हुई थी। मालिक ने कहा कि सेब को अच्छे से पकने के लिए पर्याप्त सूर्य का प्रकाश पाने की जरूरत है, लेकिन सेब के नीचे और पीछे के भाग को पर्याप्त सूर्य का प्रकाश नहीं मिलता, लेकिन इस मामले में यदि जमीन पर चांदी पन्नी बिछाए, तो यह सूर्य का प्रकाश प्रतिबिंबित करती है, और सेब का हर भाग एक समान प्रकाश पा सकता है।

सेबों को तोड़ने के दौरान एक पत्ता सेब पर चिपका हुआ मिला। मैंने सेब से सावधानी से उस पत्ते को निकाला, तो मैंने पाया कि सेब का भाग जिसे पर्याप्त सूर्य का प्रकाश प्राप्त था, अच्छी तरह से लाल-लाल पका हुआ, लेकिन वह भाग जो पत्ते से ढका हुआ था, हरे रंग का दिखा। मैं देख सकी कि सेब के विकास में सूर्य के प्रकाश का कितना बड़ा प्रभाव पड़ता है।

मालिक ने कहा कि चाहे सेब का एक बहुत छोटा सा भाग न पके, फिर भी सेब का मूल्य बहुत गिरता है। इसलिए जब मालिक ने सेब की फसल को बक्से में डालने के लिए उसकी आखिरी जांच की, उसने सेब के हर एक भाग को बारीकी से जांचा और सिर्फ सर्वोत्तम गुणों वाले अच्छे पके लाल सेबों को बक्से में डाला और कम गुण वाले सेबों को उनसे अलग किया।

सेबों को तोड़ते और लपेटते हुए मैं खुद के बारे में सोचने पर मजबूर हो गई। मैंने सोचा कि उस समय भी ऐसा ही होगा जब परमेश्वर जो हमारे आत्मिक किसान हैं, जंगली घास से गेहूं को अलग करेंगे। मैंने अपने भीतर झांका और सोचा कि क्या मैं सर्वोत्तम गुणों वाले फल के रूप में चुने जाने के योग्य हूं, या क्या मैं अंदर से कच्ची या सड़ गई हूं चाहे मैं बाहर से अच्छे फल के समान दिखूं। मैंने यह भी सोचा कि क्या मेरा चरित्र उस जीवन की ज्योति से जो परमेश्वर ने मुझ पर चमकाई, दूर होने के कारण अभी तक पका नहीं है।

नम्र होना, सेवा करना, विचारशील होना, परमेश्वर के सारे हथियार बांधना इत्यादि, ये सभी शिक्षाएं जो परमेश्वर ने हमें दी हैं, उन परमेश्वर के प्रेम से आती हैं, जो हमें सम्पूर्ण बनाकर स्वर्गीय खलिहान में ले जाना चाहते हैं। परमेश्वर चिंता करते हैं कि हम कहीं अच्छे फलों की पंक्ति से हट न जाएं, और प्रेम से हर एक आत्मा की देखभाल करते हैं।

यदि मैं और सभी स्वर्गीय परिवार के सदस्य परमेश्वर के जीवन की ज्योति से अपनी आत्माओं को भरपूर बनाए रखें, और यदि हम परमेश्वर के उदाहरण का पालन करके एक दूसरे की परवाह और देखभाल करें, तो एक दिन हम पकेंगे और अच्छे फलों के रूप में पाए जाएंगे।

जब मैंने स्वयंसेवा का कार्य शुरू किया था, मैंने सोचा था कि किसान की मदद करने के लिए मैं वहां थी, लेकिन जब काम पूरा हो चुका, तब मुझे एक उपहार के रूप में एक ऐसी बड़ी बात का बोध हो गया जो मुझे कहीं और नहीं मिल सकता। अब मैं जानती हूं कि जो मैंने महसूस किया है उसे अभ्यास में लाना बाकी है।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS