WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

26 दिसम्बर, 2019

पिता का प्रेम

सिंगापुर से वेई वेई

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

बचपन में मैंने संकल्प बनाया था कि मुझे कभी एक व्यवसायी नहीं बनना है। यह मेरे पिता के कारण था जो एक व्यवसायी थे। वह हर समय इतने व्यस्त थे कि मैं उन्हें मुश्किल से देख सकती थी। वह अक्सर व्यापारिक यात्रापर जाते; और जब वह व्यापारिक यात्रा पर नहीं जाते, तब उनके पास अपने ग्राहकों के साथ डिनर अपॉइंटमेंट था। मुझे याद नहीं है कि मेरे परिवार ने एक साथ भोजन किया था।

जब वह घर पर होते, तो भी वह हमेशा फोन पर बात करते रहते थे। जब एक फोन पर उनकी बात समाप्त होती, तब वह तुरन्त दूसरे फोन का जवाब देते थे। कभी कभी वह कई घंटों तक फोन पर बात करते थे। चाहे वह घर पर थे या नहीं, मैं मुश्किल से उन्हें देख सकती थी, इसलिए मैं अपनी मां के पास जाकर कुड़कुड़ाई।

“पापा सिर्फ अपना काम की चिंता करते हैं।”

“वह तुम्हारे लिए कड़ी मेहनत से काम कर रहे हैं।”

मैं नहीं समझ सकती थी कि मां के कहने का मतलब क्या है। यह स्पष्ट था कि उन्हें परिवार से ज्यादा अपने काम की चिंता थी, और मुझे यकीन था कि उन्होंने व्यवसाय इसलिए शुरू किया क्योंकि उन्हें वही पसंद था।

मैंने काफी समय के बाद जाना कि वह मेरी तरह एक शांत व्यक्ति थे और वह वास्तव में लोगों का सामना करना पसंद नहीं करते थे। ग्राहकों के साथ भोजन करने और भोजन के पूरे समय उनके साथ व्यवसाय की बातचीत करने से कई अधिक उन्हें किताब पढ़ना या शान्त जगह पर टहलने के लिए जाना पसंद था। लेकिन जैसे मेरी मां ने कहा था, उन्होंने सिर्फ अपनी बेटी का पालन–पोषण करने के लिए वह काम करना जारी रखा जो उनके व्यक्तित्व के अनुरूप नहीं था।

पीछे मुड़कर देखूं, तो मैं अपने बचपन में दौलतमंद थी। मेरे पापा मुझ से बहुत प्रेम करते थे और उन्होंने सिर्फ मुझे अच्छी चीजें देने की कोशिश की। चाहे वह कितने भी व्यस्त क्यों न हों, फिर भी जब कभी वह मेरे लिए कुछ करते, तो वह हमेशा अपना सर्वोत्तम करते थे। जब कभी मैं उनसे कहती थी कि मैं ठीक हूं, तो वह मुझसे कोमल आवाज में कहते थे, “तुम मेरी एकलौती बेटी हो न? तुम मेरे लिए सबकुछ हो।”

भले ही मेरे पास उनके साथ समय बिताने के लिए अधिक मौके नहीं थे, लेकिन जब कभी हम एक साथ समय बिताते थे, तब वह अक्सर मुझे अच्छी शिक्षाएं भी देते थे। मेरे पापा की एकमात्र आशा थी कि अपनी बेटी अच्छे से बढ़े और खुशी से जीए।

मैं अपने पापा के प्रेम में बढ़ रही थी, तब मेरे पापा कमजोर पड़े। व्यवसायी के रूप में उन्होंने एक अनियमित और उग्र जीवन जिया और संचित थकान उन्हें नुकसान पहुंचा। वह बहुत स्वस्थ थे और वह कसरत करना पसंद करते थे, लेकिन अब उनकी सेहत बिल्कुल अच्छी नहीं है और इसलिए उन्हें दवाई खानी पड़ती है। यह शायद इसलिए क्योंकि उन्होंने अपना सबकुछ अपनी बेटी को दिया।

स्वर्गीय पिता ने भी सिर्फ अपनी संतानों के लिए दर्द और बलिदान का जीवन जिया। स्वर्गीय महिमा और आराम पीछे छोड़कर, उन्होंने अकेले दुख उठाए। पिता के बलिदान को धन्यवाद, मैं स्वर्गीय राज्य की ओर आगे देख सकी जो मैंने अपने पापों के कारण खो दिया था। स्वर्गीय पिता के प्रेम और बलिदान के द्वारा मेरे जीवन का हर एक दिन मौजूद हो सकी।

मैंने अब तक पिता के प्रेम को पूरी तरह महसूस नहीं किया है। मैं अपने हृदय पर इस तथ्य को उत्कीर्ण करके कि उनके कारण आज मैं होती हूं, एक पश्चातापी जीवन जीना चाहती हूं।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS