WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

खुश लोग

612 देखे जाने की संख्या

मार्केटिंग और व्यवहार संबंधी निर्णय लेने वाली एक अमेरिकी प्रोफेसर कैसी मोगिलनर ने 18 से 87 के बीच के वयस्कों के खुशी के बारे में अध्ययन किया। अध्ययन के परिणाम के अनुसार, दैनिक गतिविधियों से महसूस की गई खुशी जैसे कि फिल्में देखना या सैर करना इत्यादि यह युवा लोगों की तुलना में वृद्ध लोगों में अधिक होती है। कारण आसान है। युवा लोग आम तौर पर विदेशी दौरे या शादी जैसे विशेष अनुभवों से खुशी महसूस करते हैं। इसके विपरीत, वृद्ध लोग सामान्य गतिविधियों से खुश महसूस करते हैं जैसे कि गली में फूलों की खुशबू को सूंघना।

यह उल्लेखनीय है कि खुशी, जो हर कोई चाहता है, केवल कुछ नई चीज के माध्यम से प्राप्त नहीं की जाती। कुछ आधुनिक लोग एक काल्पनिक लक्ष्य बनाते हैं, और निराश महसूस करते हैं क्योंकि वे अपने लक्ष्य को आसानी से प्राप्त करने में विफल होते हैं, या छोटे दुर्भाग्य से हतोत्साहित महसूस करते हैं। बहुत से लोग अपने लक्ष्यों को पूरा करने के बाद भी खुशी महसूस करने के बजाय खाली महसूस करते हैं।

आइए हम इस बारे में ज्यादा चिंता न करें कि हम कैसे खुश रह सकते हैं। आइए हम उस पर ध्यान केंद्रित करें जो हम दैनिक गतिविधियों से खुश महसूस कर सकते हैं। यद्यपि आज कुछ खास नहीं है और आज कल जैसा ही है, तेज़ धूप, या बारिश की बूंदें जो हमारे कानों पर दस्तक दे रही हैं, हवा जो हमारे चेहरे को छू रही है, और एक कप गर्म चाय जो हमारे शरीर को गर्म करती है, उनमें खुशियां भरी हुई हैं। इसके अलावा, परमेश्वर का उद्धार हर दिन हमारे साथ होता है। इसलिए, खुश न होने का कोई कारण नहीं है। हमारे समान क्या कोई है जो परमेश्वर के उद्धार के अनुग्रह को धारण किए हुए है?

“हे इस्राएल, तू क्या ही धन्य है! हे यहोवा से उद्धार पाई हुई प्रजा, तेरे तुल्य कौन है?…”व्य 33:29