WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

17 अप्रैल, 2020

परिवार जब खुश रहता है, तो सब कुछ अच्छा होगा! खुशियों की शुरुआत घर से होती है

– क्या आप सफल होना चाहते हैं? तब पहले अपने परिवार की अच्छी देखभाल करें। जिन लोगों ने अपने परिवार को सामंजस्यपूर्ण बना दिया है, वे सफल लोग हैं।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

जब कोरियाई लोगों से पूछा जाता है कि उनके परिवार का आदर्श वाक्य क्या है, तो ज्यादा लोग कहते हैं, “परिवार जब खुश रहता है, तो सब कुछ अच्छा होगा।” एक परिवार समाज और देश का आधार है, और किसी के जीवन का प्रारंभिक बिंदु है। इसलिए यह निश्चित है कि जब परिवार सामंजस्यपूर्ण होते हैं तब समाज और देश को मजबूत और स्थिर रखा जा सकता है।

एक सामंजस्यपूर्ण परिवार का रहस्य

श्रीमान किम का परिवार हमेशा एक दूसरे के साथ बहस करता है; बहस के बिना उनका एक भी दिन नहीं गुजरता था। एक दिन, श्रीमान किम ने अपनी गाय को घास चराने के लिए उसे पहाड़ी पर बांध दिया, लेकिन जैसे ही लगाम ढीली हो गई, गाय पूरे मैदान के चारों ओर भागने लगी और उसने फसलों को बर्बाद कर दिया। श्रीमान किम, गाय को पकड़ने में कामयाब रहा, उसे गौशाला में बांध दिया, और अपनी पत्नी पर चिल्लाने लगा, “क्या तुमने सुबह में गाय को चारा ठीक से खिलाया था? तुमने क्यों उसे भूखा रखा और उन्मादी होने दिया? जब पति ने अपनी पत्नी को डांटा, तो पत्नी ने अपना सारा गुस्सा अपनी बहू पर उतार दिया, “तुम क्या कर रही थी, तुमने गाय को उन्मादी होते हुए नहीं देखा जब कि तुम ठीक कुएं के पास थी?” तब वह बहू जिसकी भावनाओं को चोट लगी थी, उसने अपने पति पर दोषी ठहराया, “गाय की लगाम ढीली होने तक तुमने वहां उसे क्यों छोड़ा?” फिर उसने अपने पिता से शिकायत की, “पिताजी! अगर आपने गाय की लगाम कसकर बांधी होती, तो ऐसा कुछ भी नहीं हुआ होता!” इस तरह, श्रीमान किम का परिवार एक दूसरे को ही जिम्मेदार ठहराता रहा और काफी देर तक झगड़ा हुआ।

कुछ दिनों बाद, वही घटना श्रीमान ली के परिवार के साथ भी हुई जो सामंजस्यपूर्ण होने के लिए प्रसिद्ध है। जब श्रीमान ली के परिवार ने देखा कि उनकी गाय की लगाम ढीली हो गई है, वे सभी बाहर गए और उन्होंने एक साथ गाय को पकड़ लिया। जब श्रीमान किम ने यह देखा, उसने सोचा कि, ‘उनके बीच एक बड़ा झगड़ा होगा।’ लेकिन श्रीमान ली के घर पर कोई झगड़ा नहीं हुआ। श्रीमान ली ने कहा, “मुझे माफ कीजिए। यह सब मेरी गलती है। मुझे उसे कसकर बांधना चाहिए था।” लेकिन फिर उसकी पत्नी ने कहा, “नहीं, नहीं। यह सब मेरी गलती है, क्योंकि मैंने उसे ठीक से खाना नहीं दिया था। इसलिए गाय ने लगाम को ढीली करने की कोशिश की।” तब फिर बहू ने कहा, “नहीं, सास! यह मेरी गलती है, क्योंकि मैंने ध्यान नहीं दिया कि गाय चारों ओर दौड़ रही है जबकि मैं ठीक कुएं के पास थी,” लेकिन तब बेटे ने कहा, “मैं भूल गया कि गाय को घास खिलाने के बाद वहां से ले जाना था, इसलिए यह मेरी गलती है।” जब हर कोई खुद पर दोषी ठहरा रहा था, वे सब हंसने लगे।

ऐसा कोई परिवार नहीं है जिसमें कोई समस्या नहीं है। जब कोई समस्या आ जाती है, और यदि सभी लोग कहें, “यह मेरी गलती है,” तो इससे झगड़ा नहीं होता। यही एक सामंजस्यपूर्ण परिवार का रहस्य है।

जब परिवार सामंजस्यपूर्ण होता है

जब आपके परिवार में शांति होती है, तो आपमें कुछ करने की इच्छा हो सकती है, चाहे वह पढ़ाई हो या काम। आपको किस स्थिति में ऐसा लगता है कि आप अधिक कुशलता से काम कर सकते हैं, जब आप आनंदपूर्ण घर से निकलकर काम पर जाते हों या जब आप परिवार के साथ झगड़ने के बाद गुस्से में घर से निकलकर काम पर जाते हों? दरअसल, एक ब्रिटिश प्रोफेसर, जिन्होंने सहकर्मियों के साथ संघर्ष और परिवार के सदस्यों के साथ संघर्ष के बीच संबंधों का अध्ययन किया, उन्होंने अपने शोध के नतीजे की घोषणा की: जिन लोगों को अपने पारिवारिक समस्याओं के बारे में चिंता होती है, वे आसानी से काम पर परेशान हो जाते हैं क्योंकि वे अपने काम पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते, और यह उनके सहकर्मियों के प्रति नकारात्मक प्रतिक्रिया का कारण बनता है, और जब वे घर वापस जाते हैं, तो अपने जीवन साथी के साथ उनका संघर्ष बदतर हो जाता है।

घर का वातावरण खासकर बच्चों और किशोरों पर बड़ा प्रभाव पड़ता है। एक अमेरिकी ऑनलाइन समाचार समूहक, हफिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, अधिक वजन होने या अनुचित खाने की आदत पड़ने, या अस्वस्थ भोजन खाने की संभावना उन बच्चों और किशोरों में कम होते हैं जो सप्ताह में कम से कम तीन बार अपने परिवारों के साथ भोजन खाते हैं। एक अन्य शोध से यह भी पता चला है कि मां की ईमानदार देखभाल बच्चों की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाती है। इससे रोग होने की संभावना कम हो जाती है क्योंकि वह प्रोटीन कम हो जाता है जो संक्रमण का कारण बनता है। वे बच्चे जो यह देखते हुए बड़े होते हैं कि अपने माता पिता एक दूसरे से प्रेम करते हैं, उन्हें भावनात्मक स्थिरता भी मिलती है।

जिन बच्चों को अपने पिता के साथ पारिवारिक संबंध होता है, वे सक्रिय हो जाते हैं और आसानी से अपने तनाव को दूर करते हैं। और इस बात की संभावना बहुत कम है कि खुश परिवार में बच्चा उपद्रवी बन जाता है। भले ही वह ऐसा बन जाता है, तो वह जल्दी से अपना मन बदल देता है। ऐसा इसलिए क्योंकि खुश परिवार के बच्चों को महसूस होता है कि अपने पास लौटने का स्थान है। स्थिर घर वातावरण के बच्चे शांतिपूर्ण मन से अध्ययन कर सकते हैं और सीखने की उनकी क्षमता भी बढ़ जाती है।

जब घर एक आरामदायक घोंसले के रूप में पूरी तरह से काम करता है, तो बच्चे शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ जीवन प्राप्त कर सकते हैं।

वह व्यक्ति जो सामंजस्यपूर्ण परिवार बनाने में सफल रहा है, वह एक सफल व्यक्ति है

जब लोगों से पूछा जाता है कि दुनिया में सबसे मूल्यवान चीज क्या है, ज्यादातर लोग कहते हैं कि वह परिवार है। परिवार के मुखिया, जो अपने परिवारों के लिए जिम्मेदार होते हैं, कहते हैं कि यह उनके परिवारों के लिए ही है कि वे बहुत पैसा बनाना चाहते हैं। हालांकि, ऐसे कुछ लोग होते हैं जो केवल अपने काम पर ध्यान केंद्रित करते हैं और कहते हैं कि यह अपने परिवारों की खुशी के लिए है; और ऐसे भी कुछ लोग हैं जो कहते हैं कि उनके पास अपने परिवार के लिए कोई समय नहीं है और वे सफल होने के बाद अपने बच्चों के साथ समय बिताएंगे। मगर, वे एक चीज को अनदेखा कर रहे हैं कि एक बार समय गुजरने के बाद वे कभी भी उसे वापस नहीं ले आ सकते।

वॉलमार्ट का संस्थापक सैम वाल्टन, जो दुनिया के सबसे अमीर लोगों में से एक था, उसने कहा कि वह अपना जीवन व्यर्थ ही जिया, चूंकि वह हमेशा अपने व्यापार में व्यस्त रहता था, उसके पास अपने परिवार की देखभाल करने का समय नहीं था और वह अपने नाती-पोतों में से कम से कम आधे जनों के नाम को याद नहीं कर सका। क्या हम कह सकते हैं कि वह वास्तव में सफल व्यक्ति था?

एक ही समय में दो खरगोशों को पकड़ना आसान नहीं है, काम और परिवार के साथ भी वैसा ही है। यदि आप अपने सहकर्मियों के साथ एक सभा में शामिल होने से इनकार करते हैं केवल इसलिए क्योंकि आपका परिवार आपकी प्रतीक्षा कर रहा है, तो आपके सहकर्मी इसके बारे में खुश नहीं होंगे, और आपको अपने प्रमुख से हर बार अपना बच्चा बीमार होने के कारण घर पर जल्दी जाने की अनुमति मांगना आसान नहीं होगा। यह वास्तविकता है। महत्वपूर्ण बात यह है कि इस बात को भूलना नहीं चाहिए कि सबसे पहली प्राथमिकता परिवार है। जब आप किसी अपरिहार्य स्थिति में होते हैं जहां आप अपने परिवार की देखभाल नहीं कर सकते, तो आपको उनसे माफी मांगनी चाहिए, और आपको लगातार अपना प्यार व्यक्त करना चाहिए। अगर आपका परिवार खुश नहीं है, तो समाज में आपकी सफलता का क्या लाभ है? भले ही आप सफल हो जाते हों और बहुत सारा पैसा कमा लेते हों, लेकिन यदि आपका परिवार आपके साथ नहीं है जो आपके साथ मुस्कुरा सकता है और आपके साथ हार्दिक बातचीत साझा कर सकता है, तो आप खाली महसूस करेंगे।

यदि आप के मन में ऐसा विचार है कि आपकी कंपनी के विकास और आपकी सफलता के लिए परिवार का त्याग किया जाना ठीक बात है, तो अपना विचार बदल दें। जब आपके पास अपने परिवार के सदस्य होते हैं जो काम के बाद थके हारे वापस घर आने पर आपका स्वागत करते हैं, तो आप एक खुश और सफल व्यक्ति हैं।

एक सर्वेक्षण ने कोरिया में प्राथमिक स्कूल के 6,946 छात्रों से पूछा कि खुशी के लिए सबसे जरूरी चीज क्या है, और उनमें से 43.6% ने “एक सामंजस्यपूर्ण परिवार” चुना। जब परिवार सामंजस्यपूर्ण होता है, तो खुशियां उमड़ती रहती हैं। “परिवार जब खुश रहता है, तो सब कुछ अच्छा होगा,” इस कहावत के अर्थ को अपने मन में अंकित करते हुए, आइए हम और अधिक अपने परिवार की देखभाल करें और उनसे प्रेम करें। तब हमारी सभी इच्छाएं और आशाएं सच हो जाएंगी।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS