WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

30 अप्रैल, 2019

लिंकन, एनई, अमेरिका से न्यानोंग कोन्ग

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

जब से मैंने अपने विश्वास का जीवन शुरू किया, मैंने परमेश्वर के वचनों से बुद्धि मांगी, और जब भी मेरे पास समय होता था, मैंने परमेश्वर को जानने के लिए बाइबल का अध्ययन किया। लेकिन कभी-कभी कुछ हिस्से ऐसे होते थे जो मुझे समझ में नहीं आते थे। तब मैं बस इस वचन पर विश्वास करते हुए, “मुझ से प्रार्थना कर और मैं तेरी सुनकर तुझे बड़ी-बड़ी और कठिन बातें बताऊंगा जिन्हें तू अभी नहीं समझता”(यिर्मयाह 33:3), बाइबल को समझने में मदद करने के लिए परमेश्वर से प्रार्थना करता रहा।

मैं वास्तव में विश्वास करता था कि यीशु शरीर में आए परमेश्वर हैं, और मुझे एक चर्च में बपतिस्मा दिया गया था। लेकिन उन्होंने बाइबल का अध्ययन अच्छी तरह से नहीं किया वे बस सिखाते थे, ‘प्रेम करो’ और ‘अच्छे व्यक्ति बनो’। मैं सत्य के वचनों के बारे में अधिक जानना चाहता था, इसलिए मैंने खुद अध्ययन करना जारी रखा। लेकिन मैं निराश होने लगा, क्योंकि मैं परमेश्वर की इच्छा को समझने में असमर्थ था। मुझे नहीं पता था कि पापों की क्षमा कैसे पाना है। परमेश्वर के खिलाफ पाप करने के बारे में दोषी महसूस करते हुए, मैंने धार्मिक जीवन जीने में मदद करने के लिए परमेश्वर से विनती की।

मैं जल्द ही उन लोगों को खोजने के लिए जो परमेश्वर के वचानों के बारे में उत्साहित हैं, एक नए चर्च में चला गया। उस चर्च में, मुझे एक प्रेरणादायक उपदेश सुनकर खुशी हुई लेकिन मुझे अभी भी निराश महसूस हुई। यद्यपि मुझे विश्वास था कि यीशु हमें पापों की क्षमा और उद्धार देने के लिए क्रूस पर मरे, लेकिन मुझे समझ में नहीं आया कि इतने सारे ईसाई जो पाप से बच गए, क्यों पाप करते रहते हैं। मेरी आत्मा बहुत व्याकुल और उदास थी, इसके बावजूद, मैंने अस्पष्ट रूप से माना कि मैं पहले ही से उद्धार पा चुका हूं।

मैंने ईमानदारी से परमेश्वर से प्रार्थना की कि मैं बाइबल के वचनों को स्पष्ट रूप से महसूस कर सकूं। इस बीच, परमेश्वर के अनुग्रह से, मैं कुछ दोस्तों से मिल सका जो चर्च ऑफ गॉड में जाते थे। मैंने उनसे सबसे पहले यरूशलेम माता के बारे में सत्य सुना। बाइबल का अध्ययन बिल्कुल अलग था जिस तरह मैंने अब तक किया था। मैं आश्चर्यचकित था इसलिए मैंने हर हफ्ते अध्ययन करने के लिए वादा किया था। प्रचारक यह सुनिश्चित कर रहा था कि मुझे कोई गलतफहमी न हो। हर हफ्ते अध्ययन करने के बाद, मैंने पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम से एक नया जीवन प्राप्त किया, और स्वर्गीय पिता और माता की संतान बना।

चूंकि मैं सच्चे चर्च को बेसब्री से खोज रहा था, मैं हर दिन चर्च गया और बाइबल का अध्ययन किया। स्वर्गीय पिता और माता ने हमें बहुत सारे उपहार दिए हैं, उदाहरण के लिए, सभी सत्य की पुस्तकें और उपदेश जो मुझे परमेश्वर की गहरी बातों का एहसास करने में मदद करते हैं, एलोहिस्ट पत्रिका जो दुनिया भर से आई सिय्योन की सुगंध को हमारे साथ साझा करती है, खुश परिवार पत्रिका जो हमें चरित्र निर्माण करने में और खुशहाल घर बनाने में मदद करती है, और चर्च ऑफ़ गॉड वेबसाइट(http://hindi.watv.org) जो प्रेरणादायक नए गीतों और उपदेशों से भरे हैं जो मुझे हमेशा आत्मिक रूप से प्रोत्साहित करते हैं।

“आप मेरी एकमात्र चिंता हैं,” स्वर्गीय माता ने कहा, जिन्होंने हमें जो मरने के लिए नियुक्त थे, बचाने के लिए स्वर्ग के सिंहासन को पीछे छोड़ा और इस पृथ्वी पर आई हैं। उनकी बात सुनकर मुझे गहराई से एहसास हुआ कि हमारी स्वर्गीय माता हमसे कितना प्रेम करती हैं। दर्द होने के बावजूद, हमें एक मुस्कान के साथ हमेशा प्रोत्साहित करने के लिए, मैं स्वर्गीय माता को सच में धन्यवाद देता हूं।

हम पापों की क्षमा और अनन्त जीवन प्राप्त कर सकते हैं और परमेश्वर के बलिदान के लहू से स्थापित हुए पवित्र सिय्योन में परमेश्वर के वचनों को सीख सकते हैं। अब मैं उस जीवन के पथ का अनुसरण कर सकता हूं जो हमारे दयालु परमेश्वर ने हमारे लिए बनाया है। यह परमेश्वर का अनुग्रह है कि परमेश्वरत्व और विशेष रूप से अनंत जीवन देने वाली हमारी माता के बारे में सत्य समझने के लिए हमारा नेतृत्व किया गया है।

अब मुझे वह सत्य मिल गया है जिसे मैं ईमानदारी से खोज रहा था और मैं अपने आत्मिक पिता और माता से मिला हूं, तो मैं यत्न से स्वर्ग की आशा रखते हुए सुसमाचार का कार्य पूरा करूंगा। मैं पश्चाताप का जीवन जीते हुए खोए हुए भाइयों और बहनों को खोजने के लिए हर संभव प्रयास करूंगा।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS