WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

मां अपनी संतानों के प्रति प्रेम की शक्ति के मारे कभी हार नहीं मानती

गुमी, कोरिया से ली सु जा

390 देखे जाने की संख्या
FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

जब मैं बर्तन धो रही थी तब मेरा फोन बजा।

वह मेरी मां थी।

मैं अनुमान लगा सकी कि वह मुझे क्यों फोन कर रही है। मां ने मुझे कुछ भोजन देने के लिए फोन किया होगा। ‘मुझे उसे पहले फोन करना चाहिए था,’ इस विचार पर मुझे खेद हुआ।

मेरी चार बड़ी बहनें और एक छोटा भाई हैं। भले ही मैं चालीस से अधिक वर्ष की हो गई हूं, लेकिन मां की आंखों में मैं अभी तक एक छोटी लड़की हूं जो उसकी चिंता का कारण है। मेरा भाई सबसे छोटा बच्चा है, लेकिन शायद क्योंकि वह भरोसेमंद बेटा है, इसलिए मेरी मां मुझे सबसे छोटी बच्ची की तरह मानती है। मैंने उसे एक बच्ची की तरह “मां!” कहते हुए फोन पर उत्तर दिया। मां ने मुझे अपने घर आकर कुछ फल और मांस ले जाने को कहा क्योंकि पारिवारिक कार्यक्रम में मेरी मौसियों और मामाओं के उससे मुलाकात करके वापस जाने के बाद उसके पास बहुत सी वस्तुएं रह गई थीं।

अगले दिन दोपहर को मैं अपनी मां के घर गई जहां मैं बहुत लंबे समय से नहीं गई थी। जैसे ही मैंने प्रवेश किया, तो मैंने देखा कि पीछे के आंगन से धुआं निकल रहा था। मैं धुएं के पीछे-पीछे चली और मैंने चूल्हे में गाय की हड्डियों का शोरबा उबलते देखा। मां को ढूंढ़ने के लिए जिसने मेरे बुलाने पर भी उत्तर नहीं दिया था, मैं घर के अंदर चली गई। मां ने रसोई घर में मेरा स्वागत किया।

मां बलूत के फलों से जिन्हें उसने पिछले पतझड़ में उठाया था, डोटोरिमुक(बलूत के फलों से बनाया हुआ जेली) बना रही थी। उसे बनाने के लिए, कड़वा स्वाद के निकल जाने तक बलूत के फलों को पानी में सोखना और फिर उन्हें पीसने के लिए सुखाना पड़ता है। और उस पाउडर को पानी में घोलकर उबालना पड़ता है। इस बीच, इसे जलने से और बर्तन के तल पर चिपकने से रोकने के लिए लकड़ी की लेपनी से हिलाते रहना पड़ता है। उसके लिए उसे हिलाते हुए लंबे समय तक खड़े रहना कठिन रहा होगा; वह रसोईघर के सिंक पर बैठी हुई और एक कुर्सी पर अपने पैर रखकर उसे हिला रही थी। पहले, मैंने पका हुआ डोटोरिमुक ले आकर केवल उसका आनंद लिया था। लेकिन इस बार, मैं इसे बनाने की प्रक्रिया को देखकर जान गई कि यह कितना मुश्किल है।

जैसे वह हमेशा मेरे लिए करती थी, मेज पर मेरे लिए उबले हुए मीठे आलू और मक्के रखे हुए थे। उन चीजों के अलावा, ताजा तिल का तेल, सब्जियां जो पकाने के लिए तैयार की गई थीं, किमची बनाने के अगले मौसम तक खाने के लिए पर्याप्त किमची और जंगली तिलों के तेल से भुनने के बाद अच्छे आकार में कटे हुए समुद्री शैवाल थे। और यही नहीं, अलग-अलग अतिरिक्त व्यंजन भी थे। इसके अलावा, ताजे तेंदू फल सहित सभी प्रकार के फलों के छह पैक भी तैयार किए गए थे जिन्हें मां ने साइकिल से ढलान वाले खेत में जाकर तोड़ा था।

मां ने खाली पेट वह सब कुछ किया, क्योंकि उस दिन अस्पताल में कोलोनोस्कोपी(बृहदांत्रदर्शन) उसके लिए आरक्षित था। उसने अपनी बेटी के लिए इतने सामान पैक किया क्योंकि वह नहीं जानती कि मैं फिर कब उससे मिलने जाऊंगी। इतने लंबे समय तक, उसने केवल अपने बच्चों को देने का जीवन जिया है। जब भी मैं अपनी मां को देखती हूं जो अपना ख्याल रखे बिना बच्चों के लिए सब कुछ करती है जैसे कि वह इस तरह के जीवन का अभ्यस्त हो, तो मेरा दिल टूट जाता है।

जब उसकी पहली बेटी जो मुर्गियां पालती है उसके लिए अंडे ले आती है, तो वह कहती है, “सबसे छोटे बेटे को अंडा पसंद है,” और उन्हें अपने सबसे छोटे बेटे को देती है। जब चौथी बेटी उसके लिए एक डिब्बा स्वादिष्ट सेब खरीद ले आती है, तो वह कहती है, “दूसरी बेटी को सेब पसंद है,” और उसे अपनी दूसरी बेटी को देती है। जब तीसरी बेटी उसके लिए चावल का केक बनाकर ले आती है, तो वह कहती है, “चौटी बेटी को चावल का केक पसंद है,” और अपने चौथी बेटी को देती है।

यह जानकर, मेरी तीसरी बड़ी बहन उदासी हुई और भुनभुनाई, “अब से मैं मां के लिए कुछ नहीं ले आऊंगी।” तब मां ने कहा, “मेरे खाने से ज्यादा अपने बच्चे के अच्छी चीजें खाने से मुझे अधिक खुशी होती है, तो मैं क्या करूं।” भले ही हमने एक आवाज में मां को यह कहते हुए घुड़का कि हम उसकी दी हुईं चीजें नहीं लेंगे, लेकिन हम सब हमारे प्रति उसके प्रेम से फुसलाए गए।

कभी-कभी, मुझे उसे देखकर खेद होता है जो आयु बढ़ने पर पतली हो गई और कमर आगे की ओर झुकी हुई है। क्योंकि मुझे ऐसा लगता है कि मैंने अपनी मां को इस तरह बदल दिया। खेद की भावना के कारण यह न जानते हुए कि मुझे क्या करना है, मैं अभी भी मां की मेहनत और बलिदान में निहित प्रेम से अपने हृदय में प्रचुरता का आनंद ले रही हूं।