WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

विचारपूर्ण मित्रता

136 देखे जाने की संख्या

“हे, दोस्त! मुझे आखिरकार कोई ऐसा व्यक्ति मिल गया जो तुम्हारा चित्र खरीदेगा!”

एक अप्रसिद्ध चित्रकार अपने मित्र के शब्दों को सुनकर खुश था, लेकिन दूसरी ओर, उसके मन में संदेह की भावना भी थी, क्योंकि कला की दुनिया में साधारण ग्रामीण परिदृश्यों के दर्शन वाले उसके चित्रों को अनदेखा कर दिया गया था।

“पेशगी के कुछ पैसे देकर, बदले में उसने मुझे एक चित्र चुनने के लिए भी कहा है। यह देखो पैसे।”

मित्र ने चित्रकार को नोटों का एक गुच्छा दिया और एक चित्र लेकर लौट गया। उन पैसों ने न केवल वंचित जीवन से पीड़ित उस अप्रसिद्ध चित्रकार के परिवार को बचाया, बल्कि कठिन समय से गुजर रहे उस आदमी को उम्मीद भी दी।

तब से, उसकी रचनाओं को कला की दुनिया से अनुकूल समीक्षा मिलना शुरू हो गई और उसका जीवन स्थिर हो गया। एक दिन, चित्रकार अपने मित्र के घर आया। फिर, उसने घर में एक चित्र को लटका हुआ देखा और आश्चर्यचकित हो गया। इसकी वजह यह थी कि वहां वही चित्र था जो उसके दोस्त ने बहुत पहले किसी और के अनुरोध पर खरीदी थी।

यह फ्रांसीसी प्रतिनिधि चित्रकार जीन फ्रेंकोइस मिलेट, जिन्होंने द एंजलस और द ग्लीनर्स जैसी उत्कृष्ट कृतियों को रख छोड़ा है, और उनके करीबी दोस्त और साथी चित्रकार थियोडोर रूसो के बारे में एक किस्सा है। रूसो जो कठिनाई से गुजर रहे अपने दोस्त की मदद करना चाहता था, वह उसकी भावनाओं के प्रति भी बहुत विचारशील था।