WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

9 फ़रवरी, 2021

परमेश्वर के साथ चलते हुए

थोंगयंग, कोरिया से दो संग यंग

493 Views
FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

मैंने जापान के फुकुओका में 2017 की गर्मी का मौसम बिताया था, और इस साल जनवरी में, मैंने जापान में एक महीने के लिए विदेशी मिशन में भाग लिया। इस बार, मैं योकोहामा में गई। यद्यपि वह भी जापान का ही एक शहर था, फिर भी प्रस्थान करने से पहले यह सोचते हुए मैं उत्साहित थी कि योकोहामा में किस प्रकार के सुसमाचार का कार्य होगा। लेकिन, जब मैं योकोहामा में पहुंची, तो यह मेरी अपेक्षा से बिल्कुल अलग था।

यद्यपि योकोहामा जापान में दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला शहर है, लेकिन सत्य को ढूंढ़ने वाली एक आत्मा से मिलना मुश्किल था। यहां तक ​​कि जब मैंने बस उनका अभिवादन किया, तब भी वे अपना हाथ लहराया या मुझे बिना देखे मेरे पास से गुजरे। चाहे मैं अपने पैरों पर फफोला पड़ने तक इधर-उधर दौड़ती थी, लेकिन कोई फल पैदा नहीं हुआ था। मुझे पिता और माता की ज्यादा याद आई जिन्होंने सृष्ट जीवों के द्वारा सेवा पाने के बजाय नजरअंदाज किए जाने पर भी अपनी संतान खोजना बंद नहीं किया, ताकि वे एक और आत्मा को भी उद्धार का समाचार सुना सकें। जब भी मैं हताश होने वाली थी तब इस विचार ने मुझे ऊर्जा से भर दिया।

एक-दूसरे को प्रोत्साहित करते और हिम्मत देते हुए, योकोहामा सिय्योन में एक-एक करके बहुमूल्य आत्माएं आने लगीं। बहन अंगेरमा, सत्य को ग्रहण करने के बाद, परमेश्वर की आज्ञा मनाने के लिए अपना काम खत्म करते ही चर्च में आती है। भाई गितादा ने सड़क पर उसे रोकने के लिए हमें धन्यवाद दिया क्योंकि वह सत्य सुन सका। भाई युया, जिसने नवंबर में नए जीवन की आशीष प्राप्त की और पूरी तरह से सत्य को समझ लिया, ने आत्मविश्वास के साथ कहा, “यहां तक ​​कि अगर कोई मुझे बहुत पैसा दे, तो भी मैं सब्त के दिन की आशीष के बदले उसे नहीं लूंगा।” परमेश्वर ने उन शुद्ध आत्माओं से सिय्योन को भर दिया।

ऐसे प्यारे भाइयों और बहनों को देखकर, मैंने चाहा कि मैं जापान में अधिक समय तक रह सकूं। बहुत सी चीजें थीं जो मैं भाइयों और बहनों को बताना और समझाना चाहती थी, लेकिन इस तथ्य ने मेरे मन को दुखाया कि मुझे कोरिया वापस जाना है। पिता को भी ऐसा ही लगा होगा जब उन्हें अपनी संतानों को पीछे छोड़कर लंबी यात्रा पर जाना पड़ा था। मेरे लिए, योकोहामा एक ऐसा स्थान था जहां मैं कई तरीकों से परमेश्वर के हृदय को समझ सकी।

जैसे यह कहावत है, “चिराग तले अंधेरा,” मैंने वास्तव में जापान को विदेशी प्रचार की जगह के रूप में नहीं सोचा था क्योंकि यह कोरिया के नजदीक है। परंतु, दो मिशन यात्राओं के दौरान, मुझे ऐसा लगा कि परमेश्वर सुसमाचार की रोशनी को और अधिक चमका रहे हैं क्योंकि यह कोरिया का एक पड़ोसी देश है। अब जापान में केवल एक ही काम बाकी है, वह सुसमाचार की रोशनी के साथ फूल खिलाकर प्रचुर मात्रा में फल उत्पन्न करना है। मैं उत्सुकता से प्रार्थना करती हूं कि जापान की सभी जगहों पर सिय्योन स्थापित किया जाए और अच्छे गेहूं से भर जाए।

साथ ही, मैं सुसमाचार के कार्य के अंत तक पिता और माता के साथ चलने का संकल्प करती हूं। मुझे अकेलापन महसूस हो सकता है और खुद को बलिदान करना पड़ सकता है, लेकिन धन्यवाद और खुशी के साथ मैं पिता और माता का पालन करूंगी क्योंकि यह वह मार्ग है जिस पर वे पहले चले। जापान में सुसमाचार के नए रोमांचक इतिहास को देखने की अनुमति देने के लिए मैं परमेश्वर को धन्यवाद देती हूं। मैं 99 प्रतिशत विश्वास के साथ नहीं, लेकिन 100 प्रतिशत विश्वास के साथ खुद को सुसमाचार के लिए समर्पित करूंगी।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS