WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

​झूठा दोष

किसी पर धूर्त और कपटपूर्ण आरोप लगाना, और अपने वरिष्ठ अधिकारी को निर्दोष व्यक्ति के बारे में इस तरह बताना जैसे उसने कुछ गलत किया हो।

1005 देखे जाने की संख्या

1.कसदियों ने दानिय्येल के तीन साथियों पर दोष लगाया

बेबीलोन के राजा, नबूकदनेस्सर ने घोषणा की कि जो मुंह के बल गिरकर सोने की मूर्ति को दण्डवत् न करेगा वह उसी घड़ी धधकते हुए भट्ठे में डाल दिया जाएगा। इसके बावजूद, दानिय्येल के तीन साथी, शद्रक, मेशक और अबेदनगो ने सोने की मूर्ति को दण्डवत् नहीं किया। उस समय, कुछ कसदियों ने जो उनसे ईर्ष्या करते थे, यह देखकर उन पर दोष लगाया और राजा को उन्हें दण्ड देने के लिए कहा।

उसी समय कई एक पुरुष राजा के पास गए, और कपट से यहूदियों की चुगली खाई(दोष लगाने लगे, आइबीपी बाइबल)। दान 3:8

※ कसदी दक्षिण बेबीलोन के एक क्षेत्र का नाम था। जब से कसदियों ने बेबीलोन पर शासन किया था, तब से बेबीलोन को कसदी कहा गया था।

चूंकि शद्रक, मेशक और अबेदनगो ने राजा नबूकदनेस्सर के आदेश के बावजूद मूर्ति की उपासना नहीं की, इसलिए उन्होंने राजा के क्रोध को भड़काया, और उन्हें उस भट्ठे में डाला गया जिसे साधारण से सातगुणा अधिक धधका दिया गया था। भट्ठा इतना गर्म था कि जिन पुरुषों ने उन्हें उठाया वे ही आग की आंच से जल मरे। जिन्होंने परमेश्वर को छोड़ दूसरे देवताओं की उपासना नहीं की और मृत्यु से डरे बिना मूर्ति को दण्डवत् नहीं किया, उनके लिए परमेश्वर ने स्वर्गदूतों को भेजा कि उनके सिर का एक बाल भी न झुलस सके।

2. मादी और फारस के हाकिमों ने दानिय्येल पर दोष लगाया

जब मादी-फारस जिसने बेबीलोन को नष्ट किया, शासन करने लगा, तब दारा ने अपने पूरे राज्य के ऊपर 120 अधिपतियों को नियुक्त किया और उन अधिपतियों के ऊपर शासन करने के लिए तीन व्यक्तियों को अधिकारी नियुक्त कर दिया। इन तीनों देखरेख करने वालों में एक था दानिय्येल।

दानिय्येल ने परमेश्वर के अनुग्रह और बुद्धि को पहना था। दानिय्येल अपनी अद्भुत प्रतिभा के कारण अन्य अध्यक्षों और अधिपतियों की अपेक्षा अधिक प्रतिष्ठित होने लगा, इसलिए राजा ने उसे समस्त राज्य के ऊपर नियुक्त करना चाहा। तब अध्यक्ष और अधिपति दानिय्येल के प्रशासनिक कार्यों को ठुकराने का बहाना ढूंढ़ने लगे, किन्तु उससे शिकायत का कोई आधार या कोई दोष नहीं मिला। इसलिए उन्होंने जाल रचा ताकि वे दानिय्येल पर परमेश्वर की व्यवस्था का पालन करने का दोष लगाएं।

उन्होंने राजा को सलाह दी कि वह ऐसी आज्ञा दे कि तीस दिन तक जो कोई राजा को छोड़ किसी और मनुष्य या देवता से विनती करे, वह सिंहों की मांद में डाल दिया जाए। तो राजा ने इसके आज्ञापत्र पर हस्ताक्षर किया और अपनी अंगूठी से मुहर लगा दी और उसकी घोषणा करवाई। मादी–फारस की अटल व्यवस्था के अनुसार, जिस पर राजा की अंगूठी से हस्ताक्षर के साथ मुहर लगा दी गई, कोई भी, यहां तक कि राजा भी उसे नहीं बदल सकता था।

दानिय्येल को मालूम होने के बावजूद कि उस पत्र पर हस्ताक्षर किया गया है, वह अपने रिवाज के अनुसार प्रतिदिन तीन बार अपने घुटनों के बल झुक कर यरूशलेम की ओर अपने परमेश्वर की प्रार्थना करता था। वह क्षण आ गया, जिसका दानिय्येल को हानि पहुंचाने वाले इंतजार कर रहे थे। उन्होंने तुरन्त राजा के पास जाकर उसका दोष बताया।

भले ही राजा दारा को दानिय्येल अत्यंत प्रिय था, लेकिन चूंकि राजा मादी–फारस की व्यवस्था को बदल नहीं सकता था, उसे दानिय्येल को सिंहों की मांद में डालने की आज्ञा देने पर मजबूर होना पड़ा। भले ही दानिय्येल को सिंहों की मांद में डाल दिया गया था, लेकिन परमेश्वर ने अपने दूत को भेजकर सिंहों के मुंह को बन्द कर दिया। इसलिए दानिय्येल अगली सुबह सिंहों की मांद से सुरक्षित रूप से बाहर आ सका। राजा दारा ने परमेश्वर को महिमा दी और आज्ञा दी कि जिन पुरुषों ने दानिय्येल की चुगली खाई थी, वे अपने अपने बाल–बच्चों और स्त्रियों समेत लाकर सिंहों के गड़हे में डाल दिए जाएं। और वे गड़हे की पेंदी तक भी न पहुंचे कि सिंहों ने उन पर झपटकर सब हड्डियों समेत उनको चबा डाला(दान 6:1-27)।

तब राजा ने आज्ञा दी कि जिन पुरुषों ने दानिय्येल की चुगली खाई थी… गड़हे में डाल दिए जाएं… दान 6:24

3. हामान ने यहूदियों पर दोष लगाया

परमेश्वर की भविष्यवाणी का समय आने पर, फारस के राजा कुस्रू ने यह लिखवा दिया कि सभी यहूदी अपने देश लौट सकते हैं। उस समय, ऐसे भी लोग थे जो अपने घर नहीं लौट सके।

फारस के राजा क्षयर्ष के समय में, एक यहूदी मोर्दकै की चचेरी बहन एस्तेर को रानी के रूप में चुना गया। इसके बाद, राजा क्षयर्ष ने हामान को उच्च पद दिया। राजा के सब सेवक, जो राजद्वार पर नियुक्त थे, हामान को दण्डवत् प्रणाम किया करते थे, लेकिन एक यहूदी मोर्दकै ने इस प्रकार दण्डवत् प्रणाम नहीं किया। हामान इस पर क्रोधित हुआ। यह जानकर कि मोर्दकै एक यहूदी था जिसे बंदी बनाया गया था, हामान ने राजा के सामने यहूदियों पर दोष लगाया और उन्हें मार डालने की कोशिश की।

तब हामान ने राजा क्षयर्ष से कहा, “तेरे राज्य के सब प्रान्तों में रहनेवाले देश देश के लोगों के मध्य में तितर-बितर और छिटकी हुई एक जाति है, जिसके नियम और सब लोगों के नियमों से भिन्न हैं, और वे राजा के कानून पर नहीं चलते, इसलिए उन्हें रहने देना राजा को लाभदायक नहीं है।” एस 3:8

आखिर में वह आदेश पत्र दिया गया जिसमें कहा गया था कि सभी यहूदी मारे जाएं, और यह पूरे राज्य में फैलाया गया। चूंकि यहूदियों को इस प्रकार के बड़े संकट में डाला गया था, रानी एस्तेर ने मरने को भी तैयार होकर उन्हें बचाने का प्रयास किया। इससे यहूदी अपने दुश्मनों को हरा सके, और हामान को जिसने यहूदियों पर दोष लगाया था, उसी खम्भे पर, जो उसने मोर्दकै को फांसी पर चढ़ाने के लिए बनाया था, लटका दिया गया।

4. शैतान ने परमेश्वर के लोगों पर दोष लगाया

हमारे दुश्मन शैतान ने स्वर्ग में हमें पाप करने के लिए लुभाया और परमेश्वर के सामने हम पर दोष लगाया।

तब वह बड़ा अजगर, अर्थात वही पुराना सांप जो इब्लीस और शैतान कहलाता है और सारे संसार का भरमानेवाला है, पृथ्वी पर गिरा दिया गया, और उसके दूत उसके साथ गिरा दिए गए। फिर मैं ने स्वर्ग से यह बड़ा शब्द आते हुए सुना, “अब हमारे परमेश्वर का उद्धार और सामर्य्व और राज्य और उसके मसीह का अधिकार प्रगट हुआ है, क्योंकि हमारे भाइयों पर दोष लगानेवाला, जो रात दिन हमारे परमेश्वर के सामने उन पर दोष लगाया करता था, गिरा दिया गया है।” प्रक 12:9-10

दुष्ट लोग जिन्होंने दानिय्येल पर दोष लगाकर उसे सिंहों की मांद में डाला था, आखिर में उसी सिंहों की मांद में डाल दिए गए। वे उसी तरीके से, जो उन्होंने तैयार किया था, दण्डित होकर सिंहों के शिकार बने। और हामान जिसने मोर्दकै पर दोष लगाकर उसे लटकाने के लिए खम्भा तैयार किया था, वह भी अपने द्वारा तैयार किए गए उसी खम्भे पर लटका दिया गया, और अन्त में जिन्होंने हामान के साथ मिलकर यहूदियों को मार डालने की कोशिश की थी, उन्हें भी अपने ही द्वारा तैयार किए गए तरीके से मार डाला गया।

जब हम बाइबल में दोष के अभिलेख देखते हैं, तो सभी समूहों के लोग जिन्होंने परमेश्वर के लोगों पर दोष लगाया था, वे उसी फन्दे में फंस गए जो उन्होंने परमेश्वर के लोगों की हानि करने के लिए तैयार किया था, और उन पर वही हानि पहुंची। अंत में, हमारे दुश्मन शैतान को भी, जिसने परमेश्वर के सामने हम पर दोष लगाया, उसी तरीके से हानि पहुंचाई जाएगी जो उसने स्वर्गीय संतानों को हानि पहुंचाने के लिए तैयार किया है।