WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

माता-पिता के द्वारा दिया गया जीवनकाल

1414 देखे जाने की संख्या

अब सुपर आयु वर्ग समाज आसन्न है, और स्वास्थ्य और दीर्घायु के बारे में कई खबरें सामने आती हैं: जैसे कि 120 साल से अधिक जीवित रहने के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में सूचीबद्ध लोगों की लंबी उम्र के रहस्य; दुनिया भर के लंबी आयु के गांव और उन ग्रामीणों की जीवनशैली। और यहां तक​​कि विदेश खबर में एक कुत्ते के बारे में रिपोर्ट किया गया था कि वह जापान में 26 साल तक जीवित रहा, हाल ही में उसकी मृत्यु हुई।

दूसरों की तुलना में लंबा जीवन जीना क्यों लोगों का ध्यान आकर्षित करता है? यह मानवजाति की लंबा जीवन जीने की सामान्य इच्छा के कारण होता है। यह साबित करता है कि जीवन एक रहस्य है जिसका विज्ञान ने भी उल्लेखनीय विकसित सभ्यता के बावजूद अभी तक हल नहीं कर पाया है।

जीवन कुछ ऐसा है जिसे लोग आसानी से महसूस कर सकते हैं, लेकिन इसे व्यक्त करना बहुत मुश्किल है। जीवन एक सामान्य गुण है जो एक जीवित प्राणी के पास जीवित होने पर होता है, और इसे आमतौर पर चयापचय1, पुनर्जनन और विकास जैसे विभिन्न विशेषताओं के रूप में परिभाषित किया जाता है। हालांकि, यह कहना मुश्किल है कि परिभाषा अभी पूरी तरह से वैज्ञानिक है, क्योंकि जीवन विभिन्न वैज्ञानिक क्षेत्रों जैसे कि शरीरक्रिया विज्ञान, भौतिक विज्ञान, जैव रसायन और आणविक जीव विज्ञान का एक संयोजन है, और महत्वपूर्ण घटनाओं को केवल एक पहलू में नहीं देखा जा सकता। यही कारण है कि शब्दकोशों में एक सहायक व्याख्या शामिल है, “जन्म और मृत्यु के बीच की अवधि।” जीवन की सबसे विशिष्ट प्रकृति यह है कि यह सीमित है, इसके पास शुरुआत और अंत है।

1) चयापचय एक जीवित प्राणी के भीतर होने वाली सभी रासायनिक प्रक्रियाएं हैं जो जीवन को बनाए रखने के लिए होती हैं जैसे कि पाचन, सांस लेना और प्रकाश संश्लेषण।

तब, जीवन की एक सीमा कैसे निर्धारित की जाती है? ऐसा जाना जाता है कि प्रत्येक जानवर प्रजातियों के पास उनका एक जीवनकाल यानी जीवन का सीमित समय होता है। सबसे कम जीवनकाल के लिए जाना जाने वाला कीट, मेफ्लाई, ईमागौ बनने के बाद कुछ घंटों से लेकर कुछ दिनों तक जीवित रहता है। हम्सटर लगभग 2 साल, कुत्ते लगभग 12 से 16 साल, गाय लगभग 20 साल, हाथी लगभग 60 से 70 साल और कछुआ 200 साल तक जीवित रहता है। भले ही वे समान वातावरण और पारिस्थितिकी में रहते हैं, उनकी प्रजातियों के आधार पर उनके जीवनकाल में नाटकीय अंतर होता है। यह उन जीनों में अंतर के कारण है जो जीवनकाल तय करते हैं। जैसा कि कहा जाता है, “एक प्याज एक गुलाब का उत्पादन नहीं करेगा,” आनुवंशिकता के माध्यम से, माता-पिता की विशेषता और चरित्र उनके वंशजों को पारित किया जाता है।

यह स्वाभाविक और सामान्य बात है कि बच्चा अपने माता-पिता से मिलता-जुलता है। लेकिन दुनिया को यह ज्ञात प्राप्त हुए ज्यादा समय नहीं हुआ है कि यह रहस्य कोशिकाओं के डीएनए में निहित है। जीन, जो माता-पिता की जैविक विशेषताओं2 पर हावी हैं, अगली पीढ़ी को प्रजनन कोशिकाओं(शुक्राणु या अंडाणु) के माध्यम से दिया जाता है। चूंकि जानवर भी अपने माता-पिता से जीन प्राप्त करते हैं, इसलिए बिल्ली के लिए एक कुत्ते को जन्म देना या गाय के लिए एक घोड़े को जन्म देना असंभव है। एक बच्चा अपने माता-पिता से विभिन्न जीन प्राप्त करता है जो न केवल ऊंचाई, त्वचा, बालों का आकार, बल्कि व्यक्तित्व और बीमारी का भी निर्धारण करता है। जीवनकाल भी, माता-पिता द्वारा विरासत में दिए गए जीनों से संबंधित है, इसलिए चाहे कुत्ते कितने भी लंबे समय तक जीवित रहें, वे उतने लंबे समय तक जीवित न रह सकते जितने मनुष्य औसत रूप से जीवित रहते हैं।

2) जैविक विशेषताएं: माता-पिता से प्राप्त किए गए या विरासत में मिले जीव के लक्षण या स्वभाव हैं, जैसे कि आंखों का रंग और शैक्षणिक कौशल।

मानव डीएनए को विस्तार से जानने के लिए एक वैज्ञानिक अनुसंधान परियोजना, मानव जीनोम परियोजना3 के माध्यम से, वैज्ञानिकों ने यह सोचना शुरू कर दिया कि एक व्यक्ति का जीवनकाल भी प्रत्येक व्यक्ति के जीन के नक्शे पर चित्रित किया जाता है। दशकों पहले तक, आमतौर पर यह माना जाता था कि जीवनकाल 80% जीवनशैली और 20% जीन के आधार पर तय किया जाता है। लेकिन 1990 के दशक के अंत से, अनुसंधान परिणामों की वृद्धि ने, जो दीर्घायु के लिए जिम्मेदार जीन के अस्तित्व पर है, आनुवंशिक कारकों पर जोर देना शुरू कर दिया।

3)मानव जीनोम परियोजना(human genome project): जीनोम, जीन(gene) और गुणसूत्र(chromosome) का एक मिश्रित शब्द है, जिसका अर्थ है सारी आनुवंशिक जानकारी। मानव जीनोम परियोजना एक मेगा अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान कार्यक्रम है जो मानव डीएनए को बनाने वाले तीन अरब न्यूक्लिक एसिड अनुक्रम की खोज करके और डीएनए में जीन की जांच करके मानव आनुवंशिक मानचित्र बनाता है। यह परियोजना 1990 में शुरू हुई और 2003 में समाप्त हो गई, लेकिन आनुवांशिक मानचित्र के कई हिस्से अभी भी खाली हैं। जब आनुवांशिक मानचित्र के सभी रिक्त स्थान भर जाएं, तो यह बीमारियों के कारणों की खोज करने और आनुवांशिक बीमारियों को रोकने या उनका इलाज करने में बहुत मदद करेगा।

हाल ही में हुए एक शोध से यह पता चला है कि आनुवांशिक कारकों का पर्यावरणीय कारकों की तुलना में लंबे जीवनकाल पर अधिक प्रभाव पड़ता है। अगस्त, 2011 में अमेरिका के जेरॉन्टोलॉजिकल सोसाइटी की पत्रिका में प्रकाशित अल्बर्ट आइंस्टीन कॉलेज ऑफ मेडिसिन में एक शोध टीम की रिपोर्ट के अनुसार लंबे जीवन के लिए तीन सामान्य जीन 500 यहूदियों के जीन में खोजे गए थे जिनकी औसत आयु 100 वर्ष थी। दिलचस्प बात यह है कि उनमें से एक तिहाई में अच्छे स्वास्थ्य के लिए असंगत आदतें थीं। इसका अर्थ है कि जीवनकाल को तय करने वाला निर्णायक कारक जीन है।

सभी माता-पिता अपने बच्चों को एक अच्छी ऊंचाई, बुद्धिमत्ता, स्वास्थ्य और दीर्घायु के जीन देना चाहते हैं यदि वे दे सकते हैं, लेकिन वे कुछ नहीं कर सकते, जो उनके पास जीन हैं उन्हीं को दे सकते हैं। कुछ लोग एक स्वस्थ परिवार में जन्म लेते हैं जिनका जीवन लंबा होता है और 100 साल से अधिक समय तक जीवित रहते हैं। कुछ लोग एक कठिन जीवन जीते हैं क्योंकि वे अपने माता-पिता से रंग बोध की अक्षमता या हीमोफीलिया जैसे आनुवंशिक रोग प्राप्त करते हैं। यही कारण है कि कई वैज्ञानिक, जीन का अध्ययन करके बीमारियों को ठीक करने का प्रयास कर रहे हैं। इतना ही नहीं, वे बुढ़ापे आने की गति को धीमा करने और जीवन को लंबा खींचने के लिए एक सक्रिय शोध भी कर रहे हैं।

लेकिन, ऐसा लगता है कि सैकड़ों जीन बुढ़ापे में आते हैं, इसलिए बुढ़ापे आने के तंत्र की खोज करना बिल्कुल भी आसान नहीं है। यह एक चुनौतीपूर्ण कार्य भी है क्योंकि बुढ़ापे आने की गति अंगों या ऊतकों के बीच और यहां तक कि एक ऊतक के अंदर भी अलग-अलग होती है। आनुवंशिक संशोधन के माध्यम से शरीर के सभी 1000 खरब कोशिकाओं को ठीक करना असंभव है।

कोशिकाओं की बुढ़ापे आने पर हुए शोध के संस्थापक लियोनार्ड हैफ्लिक के अनुसार, कोशिकाएं असीम रूप से नहीं बढ़ती, लेकिन उनके पास जीवन की कुछ सीमाएं होती हैं। मानव कोशिका संस्कृति पर उसके प्रयोग में, एक भ्रूण कोशिका सौ बार विभाजन होने के बाद रुक जाती है, जबकि एक बूढ़े व्यक्ति की कोशिका सिर्फ बीस बार विभाजन होती है। एक “जीवनकाल की घड़ी” है जो कोशिकाओं में हमारे समय को मापती है, और मृत्यु अनिवार्य है। बाद में, एक टेलोमेर, जिसे कोशिकाओं के विभाजन होने पर कम होने के लिए जाना जाता है, कोशिका जीवविज्ञानी द्वारा खोजा गया था। शरीर में क्रमादेशित किया गया यह जीवनकाल की घड़ी पीछे नहीं जा सकती। इस धरती पर जीवित प्राणी सीमित जीवन के साथ जीते हैं, और बाद में बुढे हो जाते हैं और अंत में मृत्यु का सामना करते हैं।

टेलोमेर, जो गुणसूत्र के अंत में स्थित होता है, डीएनए की रक्षा करता है ताकि यह क्षतिग्रस्त न हो लेकिन अच्छी तरह से प्रतिकृति हो सके। जब भी कोशिकाएं विभाजित होती हैं इसकी लंबाई कम हो जाती है। जब यह पूरी तरह से चला जाता है, कोशिकाओं का विभाजन समाप्त हो जाता है और कोशिकाएं मर जाती हैं। इस कारण से, टेलोमेर को “जीवनकाल की घड़ी” या “बुढ़ापे की घड़ी” कहा जाता है। यह चमकदार हिस्सा टेलोमेर है।

बाइबल सिखाती है कि जो परमेश्वर से जन्मे हैं परमेश्वर का बीज उनमें बना रहता है।(1यूह 3:9) दूसरे शब्दों में, परमेश्वर उन्हें अपना बीज यानी जीन देते हैं। जिन्होंने परमेश्वर के जीन को प्राप्त किया है वे परमेश्वर की संतान बन जाते हैं, और परमेश्वर उनके पिता और माता बन जाते हैं। परमेश्वर के पास अनंत जीवन है, न कि सीमित जीवन। तब परमेश्वर की संतानों के पास किस तरह का जीवन होता है? परमेश्वर के दीर्घायु जीन यानी अनंत जीवन के जीन को प्राप्त करने का तरीका क्या होगा?