WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

एक दोस्त के लिए गुलाबी शर्ट पहना

233 देखे जाने की संख्या

2007 में, कनाडा के नोवा स्कोटिया में हाई स्कूल के सहपाठी डेविड शेफर्ड और ट्रैविस प्राइस ने अपने दोस्तों को एक संदेश भेजा, “कल स्कूल में गुलाबी शर्ट पहनो।” ‘गुलाबी कपड़े पहने लड़कों को देखकर लोग हंसें तो क्या होगा?’ या ‘कोई गुलाबी शर्ट पहनकर न आए तो क्या होगा?’ भले ही वे चिंतित थे, उन्होंने साहस जुटाया।

अगले दिन, सौभाग्य से, उन दो छात्रों के साथ-साथ कुछ और छात्र गुलाबी कपड़ों में स्कूल आए। अगले दिन और अधिक छात्रों ने भाग लिया, और प्रतिभागियों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती गई, और अंत में 1,000 में से लगभग 800 छात्रों ने गुलाबी कपड़े पहने। स्कूल गुलाबी रंग का समुद्र बन गया।

उन दोनों छात्रों ने ऐसा इसलिए किया क्योंकि स्कूल के छात्रों में से एक की गुलाबी कपड़े पहनने के कारण हंसी उड़ाई गयी थी। इसलिए वे उस मित्र को संदेश देना चाहते थे, “हम तुम्हारे पक्ष में हैं।”

गुलाबी लहर स्कूल की बाड़ के पार और पूरे कनाडा में फैल गई, और दूसरे देशों तक भी पहुंच गई और पिंक शर्ट डे और एंटी-बुलिंग डे स्थापित हो गए। उन दो लड़कों की छोटी सी हिम्मत, जिसने एक ऐसे दोस्त को ताकत और हिम्मत दी, जो बिना किसी अच्छे कारण के सताया गया था, कई लोगों के मन में एक छाप छोड़ दी।