WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

प्रेम देना

1186 देखे जाने की संख्या

हरमन हेस नाम के एक जर्मन लेखक द्वारा लिखी गई एक परी कथा ‘ऑगस्टस’ में दिखाया गया है कि प्रेम पाने के लिए मन रखना और प्रेम देने के लिए मन रखना हमारे जीवन को कैसे प्रभावित करता है। ऑगस्टस का एक धनी परिवार के बच्चे के रूप में जन्म हुआ था। उसकी मां ने एक रहस्यमय बूढ़े आदमी से विनती की कि ऑगस्टस हर किसी से प्रेम पाए, और जैसे उसकी मां ने विनती की, उसने बड़े होने के दौरान हर किसी से प्रेम पाया। चूंकि वह लड़का केवल दूसरों से प्रेम पा रहा था, तो वह हर तरह के अपराध करते हुए घमंडी और निर्दय हो गया; यहां तक कि अन्य लोगों के प्रेम से ऊबकर और जीवन को व्यर्थ जानकर उसने अपनी जान देने का फैसला किया। उसी क्षण, उसकी इच्छा पूछने के लिए वह रहस्यमय बूढ़ा आदमी वहां फिर से प्रकट हुआ, और उसने उससे विनती की कि वह हर किसी से प्रेम करे। अगले दिन, वह उन लोगों से तुच्छ जाना गया और अपमानित किया गया जो उससे प्रेम करने के बजाय नफरत करने लगे, और वह अपने पिछले पापों के कारण दोषी भी ठहराया गया। लेकिन, उस समय से उसने दूसरे लोगों की अच्छाई को महसूस किया और उनसे प्रेम करने लगा। लंबे समय तक जेल में अपने पाप का पश्चाताप करते हुए वह खुश हो गया। बूढ़ा होकर जेल से निकलने के बाद भी, वह उन लोगों के पास गया जो उससे खफा हो गए थे, और उसने उनकी मदद की और उन्हें प्रेम दिया। अपने जीवन के अंतिम क्षण में, वह फिर से उस रहस्यमय बूढ़े आदमी से मिला। उन स्वर्गदूतों को देखकर, जो बचपन में उसके साथ रहते थे, उसने शांति से अपना जीवन छोड़ दिया।

प्राप्त करना नहीं, बल्कि देना सच्चा प्रेम होता है। जो लोग प्रेम प्राप्त करना चाहते हैं वे अपनी अंतहीन लालसाओं से संतुष्ट महसूस नहीं करते। लेकिन, जो लोग प्रेम देना चाहते हैं वे दूसरों की स्थिति पर विचार करते हैं, दूसरों के सुंदर पहलुओं की खोज करते हैं, दूसरों की सेवा करते हैं, और खुद को बलिदान करते हैं।

हमारा पुराना मनुष्यत्व ऑगस्टस के समान पापमय था जो अतीत में केवल प्रेम प्राप्त करता था। अहंकार, स्वार्थ और विद्रोह से, स्वर्ग में हमारा पाप शुरू हुआ। लेकिन अब जब हमने प्रेम देना सीख लिया है, तो हम बदल गए हैं। माता की शिक्षाओं में से पहली शिक्षा है, “प्यार पाने से प्यार देने में ज्यादा आशीष है, जैसे परमेश्वर हमेशा प्यार देते हैं।” एलोहीम परमेश्वर के उदाहरण के अनुसार, जिन्होंने मृत्यु के क्षण तक अपने आप को बलिदान किया, चर्च ऑफ गॉड के सदस्य स्वयंसेवा कार्य, सहायता और प्रचार के माध्यम से दुनिया भर में प्रेम बांटने का अभ्यास करते हैं। जब हम प्रेम बांटते हैं, तो हमारा जीवन अधिक समृद्ध और मूल्यवान होता है।