WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

यदि उन्होंने केवल परमेश्वर को देखा होता

निर्गमन 32:1~6

571 देखे जाने की संख्या

दस आज्ञाएं प्राप्त करने के लिए मूसा के सीनै पर्वत पर चढ़ने के बाद कई दिन बीत चुके हैं। इस्राएली जो उसके नीचे आने का इंतजार कर रहे थे, हारून के पास इकट्ठे हुए और उससे कुछ करने के लिए कहने लगे।

“हमारे लिए देवता बना, जो हमारे आगे-आगे चले।”

“क्योंकि उस पुरुष मूसा को जो हमें मिस्र देश से निकाल ले आया है, हम नहीं जानते कि उसे क्या हुआ।”

हारून ने उन्हें शांत करने के लिए जो उन्होंने उसे मांगा, उसे कार्य में लाया।

“मेरे पास सोना ले आओ।”

हारून ने सोने को जो लोग लाए, ले लिया और एक बछड़ा ढालकर बनाया, और लोगों ने सोने के बछड़े के सामने होमबलि और मेलबलि चढ़ाए। उसके बाद वे उठकर नाचने और खेलने लगे।

मूसा वह नबी था जिसने मिस्र का राजा फिरौन के सामने साहसपूर्वक जाकर उससे इस्राएलियों को मुक्त करने के लिए कहा, और लाठी से लाल समुद्र को विभाजित करके उन्हें सूखी भूमि पर चल कर पार करने दिया, और यहां तक कि परमेश्वर को आमने सामने देखा था जब परमेश्वर महिमा में उतरे। ऐसा महान नबी लंबे समय तक अनुपस्थित था, तो इस्राएली चिंतित हो गए। वे उस जंगल में मरने से डर गए थे जहां उनका नेता गायब हो गया था, इसलिए उन्होंने हारून को मूर्ति बनाने की धमकी दी थी।

यहां कुछ ऐसा तथ्य है जिसे इस्राएलियों ने अनदेखा कर दिया था। वह यह है कि मूसा केवल एक नबी था जिसे परमेश्वर ने नियुक्त किया था, और वह जिन्होंने उद्धार के सभी कार्य का नेतृत्व किया, परमेश्वर थे। केवल चालीस दिनों तक ही नहीं, जब मूसा सीनै पर्वत पर रहा, परन्तु जंगल में चालीस वर्ष तक, परमेश्वर ने उन्हें एक पल के लिए भी नहीं छोड़ा। एक बार फिर, हम उन लोगों के विनाश से सबक ले सकते हैं जिन्होंने जंगल में परमेश्वर को नहीं देखा। चाहे हम किसी भी परिस्थिति में हों, हमें केवल परमेश्वर पर विश्वास रखना और निर्भर रहना चाहिए।