WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

हमें कब प्रार्थना करनी चाहिए?

2698 देखे जाने की संख्या

बाइबल में लिखा है कि विश्वास के पुर्वजों ने प्रार्थना के द्वारा कठिनाइयों पर जय पाने के बाद आशीष प्राप्त की। यीशु, जो उद्धारकर्ता के रूप में पृथ्वी पर आए, उन्होंने भी प्रार्थना के द्वारा सुसमाचार का कार्य किया।

ईसाइयों के जीवन में प्रार्थना आवश्यक है; यह परमेश्वर और हमारे बीच की एक कड़ी है। यदि हम अपनी इच्छाएं और आशाएं परमेश्वर को बताना चाहते हैं, तो हमें प्रार्थना करनी चाहिए।

तब, हमें परमेश्वर से कब प्रार्थना करनी चाहिए?

1) हमें लगातार प्रार्थना में बने रहना चाहिए

हमें, जो कुछ भी करते हैं उसकी शुरुआत, प्रार्थना से करनी चाहिए, और उसे प्रार्थना से आगे बढ़ाना चाहिए और उसे प्रार्थना से समाप्त करना चाहिए, ताकि हम इस वचन को, “निरन्तर प्रार्थना करो”(1थिस 5:17) अभ्यास में ला सकें।

2) प्रार्थना करने के अवसर

  • जब हम सुबह उठते हैं
  • हर भोजन के समय
  • विधियों के अनुसार प्रार्थना के नियमित समय (गर्मी के मौसम में सुबह 9 बजे और दोपहार 3 बजे, सर्दी के मौसम में सुबह 10 बजे और दोपहार 2:30)
  • रात में सोने से पहले, अपनी दिनचर्या के घटनाक्रम को याद करते हुए
  • जब हमें परमेश्वर की सहायता चाहिए(जब हम परीक्षा, अत्याचार या मुसीबत का सामना करते हैं, हमें तुरन्त प्रार्थना करनी चाहिए।)
  • जब हमें परमेश्वर के विशेष अनुग्रह का अनुभव होता है
  • जब हमें अपने किए गलत कामों पर पश्चात्ताप करना जरूरी है
  • जब भी कुछ विशेष घटना होती है
  • 3) हमें प्रार्थना के लिए कुछ अतिरिक्त समय लेने का प्रयत्न करना चाहिए

    • हमारे विश्वास को पुन: जीवित और विकसित करने के लिए, उपवास की प्रार्थना बहुत अच्छी होती है। परमेश्वर ने कहा है कि वह उपवास की प्रार्थना सुनने से प्रसन्न होते हैं।(यश 58:6)
    • वर्ष में एक बार ऐसा दिन आता है जो उपवास के लिए निर्धारित किया गया है। वह अखमीरी रोटी का पर्व है।(पवित्र कैलेंडर के अनुसार पहले महीने के पंद्रहवें दिन) इस दिन उपवास करने का मतलब है, क्रूस पर यीशु के कष्टों में सहभागी होना।(मर 2:20)
    • यह अच्छा है कि हम अपने निजी मामलों के बारे में सवेरे या निर्धारित नियत समय में व्यक्तिगत रूप से प्रार्थना करने का समय लें।(मर 1:35)

    एक कहावत है कि किसी भी चीज का बहुत ज्यादा होना अच्छा नहीं है, लेकिन प्रार्थना एक अपवाद है। “निरंतर प्रार्थना में लगे रहो,”परमेश्वर बाइबल के वचन के द्वारा हमें प्रार्थना के महत्व का स्मरण दिलाते हैं(लूक 18:1-7; 1थिस 5:16-25)। आइए हम हमेशा परमेश्वर की शिक्षा, “निरंतर प्रार्थना में लगे रहो,” को स्मरण रखें और परमेश्वर से अधिक आशीष प्राप्त करें।

    पुनर्विचार के लिए प्रश्न
    1. हमें किन मामलों में परमेश्वर से प्रार्थना करनी चाहिए?
    2. किस प्रकार की विशेष प्रार्थनाएं हैं?