WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

गिमबाप बनाते हुए

सूवॉन, कोरिया से किम यू रा

351 देखे जाने की संख्या
FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

जब मैं छोटी थी तो मुझे गिमबाप खाना पसंद था। पिकनिक या खेलकूद दिवस पर, मेरी मां हमेशा मेरे लिए गिमबाप बनाती थी। इसलिए मैंने एक विशेष दिन पर गिमबाप खाने को हलके में लिया।

समय बीत गया, और मैं भी एक मां बन गई। मैंने भी, अपने बच्चे के पिकनिक के दिन, जैसे मेरी मां करती थी, गिमबाप बनाने का फैसला किया। लेकिन पहली बार मुझे पता चला कि यह आसान नहीं है। मैंने एक दिन पहले किराने का सामान खरीदा, सामग्रियों को तैयार किया, पिकनिक के दिन के भोर को उठकर चावल पकाया और हैम, फिश केक, गाजर, और अंडे भून लिए।

सभी सामग्रियों को तैयार करने के बाद, मैंने आखिरकार गिमबाप बनाने की चुनौती शुरू की। मैंने पके हुए चावल को एक सूखे समुद्री शैवाल पर फैलाया और सामग्रियों को एक एक करके उस पर रख दिया और उस सूखे समुद्री शैवाल को रोल कर दिया। लेकिन यह इतना आसान नहीं था जितना मैंने सोचा था। यदि मैं इसे थोड़ा कसकर रोल करती, तो यह फट जाता, और अगर मैं इसे कम कसकर रोल करती, तो यह ढीला हो जाता कि गिमबाप काटते समय सामग्रियां बाहर गिर जातीं। गलतियों-चूकों के बाद, मैंने सीखा कि इसे ठीक से कैसे रोल करे और लंच बॉक्स को समय पर तैयार किया।

जब मेरा बच्चा लंच बॉक्स को लेकर चला गया, मैंने रसोई के चारों ओर देखा; यह एक युद्ध के मैदान की तरह था। थक कर कुर्सी पर बैठने पर, अचानक, मुझे अपनी मां की याद आई। दरअसल मेरी मां का हाथ ठीक नहीं है। उसके साथ एक दुर्घटना हुई थी जिससे उसके दाहिने हाथ की पहली और बीच की उंगली आधी कट गई थीं। उसके बावजूद, मां ने मेरे लिए स्वादिष्ट भोजन बनाया और हर सुबह मेरे बालों को भी बनाया।

जैसा कि उसने अपनी थकान को नहीं दिखाया था, मैंने कभी नहीं सोचा था कि उसके लिए ऐसी चीजें करना मुश्किल रहा होगा; जब मेरे दोस्त मेरी मां के हाथ के बारे में पूछते थे तो मुझे शर्म आती थी। अपने पिछले दिनों को देखते हुए, मुझे उसके लिए बहुत खेद महसूस हुआ और मैं खुद पर बहुत शर्मिंदा हुई कि मेरी आंखों से आंसू बह निकले। उसने सभी कष्टों को सहन किया होगा क्योंकि वह मुझसे बहुत प्रेम करती है। मुझे दिल से अपनी मां के प्रेम को महसूस करने में बहुत समय लगा।

अब भी, मेरी मां कभी-कभी गिमबाप बनाती है। उसके नाती-पोते कहते हैं कि उसका बनाया गिमबाप सबसे अच्छा है। मेरी मां अपने नाती-पोतों को गिमबाप खाते हुए देखकर खुश होती है और कहती है, “इसका आनंद लेने के लिए धन्यवाद।” चाहे मेरे खाना पकाने में बहुत कमियां हैं, मैं अपनी मां के लिए गिमबाप बनाना चाहूंती हूं। अब तक, मैंने अपना आभार ज्यादा व्यक्त नहीं किया। इस बार, मैं निश्चित रूप से उसे कहूंगी, “आपका बहुत धन्यवाद, और मैं आपसे बहुत प्रेम करती हूं।”