WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

लालच को खाली करें, तो आप खुशियों से भर जाएंगे

आपके और दूसरों के बीच तुलना और बहुत अधिक लालच दु:ख लाएगा। यदि आप खुश रहना चाहते हैं, तो संतुष्ट रहें।

739 देखे जाने की संख्या

नव वर्ष के पहले दिन पर, लोग नव वर्ष के लिए अपनी इच्छाओं के बारे में अलग-अलग जवाब देते हैं, लेकिन उनकी सर्वश्रेष्ठ इच्छा एक समान होती है: यह एक सुखी जीवन जीना है। खुशी के मानदंड लोगों के आधार पर भिन्न होते हैं। कुछ लोगों का मानना है कि यदि उनके पास बहुत अधिक पैसे हैं, तो वे खुश हो सकते हैं, और कुछ लोग सोचते हैं कि यदि वे ज्यादा प्रसिद्धि प्राप्त कर लें, और कुछ लोग मानते हैं कि अधिकार प्राप्त करने से उन्हें खुशी मिलेगी।

लेकिन, एक करोड़पति, जे गोल्ड ने अपनी मृत्यु से पहले कहा, “मेरा मानना है कि मैं दुनिया में सबसे दयनीय व्यक्ति हूं।” यूरोप पर विजय प्राप्त करने वाले सम्राट नेपोलियन ने कबूल किया कि “मेरे जीवन में केवल छह दिन थे जब मैं वास्तव में खुश था।” पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति, जिमी कार्टर ने अपने जीवन के सबसे खुशहाल दिन के बारे में सवाल पूछे जाने पर जवाब दिया, “अब मैंने व्हाइट हाउस छोड़ दिया है, और मैं सबसे खुशहाल दिन बिता रहा हूं।” बहुत से लोग खुश रहने के लिए पैसे, प्रसिद्धि और अधिकार का पीछा करते हैं। लेकिन, जिन लोगों के पास यह सब चीजें थीं, उन्होंने कहा कि वे इन चीजों से खुश नहीं थे। यह वास्तव में अंतर्विरोध है।

एक स्पष्ट तथ्य यह है कि खुश रहने की स्थिति बाहरी स्थितियों पर निर्भर नहीं करती। खुशी हृदय के अंदर होती है। इसलिए खुशी एक ऐसी चीज है जो खो या चुराई नहीं जा सकती।

लालच अधिक लालच का कारण बनता है

एक समय की बात है, एक छोटे से गांव में एक मेहनती और परिश्रमी पति-पत्नी रहते थे। एक दिन, अनाज बेचकर कमाए पैसों से पति ने बाजार से एक हंसिनी खरीद ली। अगली सुबह वे उठे और देखा कि उस हंसिनी ने एक सोने का अंडा दिया है। उस हंसिनी का शुक्र है जो हर सुबह सोने का अंडा देती थी, वे धनी हो गए और उन्हें अब और काम करने की जरूरत नहीं थी। हालांकि, वह पति-पत्नी लालची बन गए और उन्होंने शिकायत करना शुरू कर दिया, “यह मूर्ख हंसिनी दिन में एक से अधिक अंडा क्यों नहीं देती?”

तब पत्नी के मन में एक विचार आया। उसने कहा, “यदि हम हंसिनी के पेट को काटकर खोल दें, तो हमें इसमें कई सारे सोने के अंडे मिलेंगे!” पति उसके साथ सहमत हो गया, और उन्होंने आखिरकार हंसिनी के पेट को काटकर खोल दिया। लेकिन, उसके अंदर कुछ भी नहीं था, और हंसिनी की मौत से पति-पत्नी पूरी तरह उदासी में डूब गए।

एसप के दंतकथाओं में इस मूर्ख पति-पत्नी की तरह, लोगों की लालच का कोई अंत नहीं होता। जितना अधिक उनके पास होते हैं, उतना अधिक वे चाहते हैं। इन दिनों, लोग एक दूसरे के साथ एक तरह की शुभकामनाएं बांटते हैं, “अमीर बनें!” एक ऐसे परिवार को देखना कोई मुश्किल बात नहीं है जिसका रिश्ता टूट गया है क्योंकि वे अधिक भौतिकवादी बन गए हैं। भाई बहन विरासत के मामले के लिए अदालत में जाते हैं, और बहुत से लोग पैसे के लिए अपने माता-पिता के खिलाफ अनैतिक अपराध करते हैं।

कुछ लोग कहते हैं कि वे एड़ी चोटी का जोर लगाकर काम करते और पैसे कमाते हैं क्योंकि अपने बच्चों की खुशियों के लिए हैं। उनका मानना है कि जितना अधिक उनके पास होगा, उतनी अच्छी तरह से वे अपने बच्चों को बड़ा कर सकेंगे, और जितना अधिक धन वे अपने बच्चों को देंगे, बच्चों का भविष्य उतना ही आनंदमय होगा। सभी माता-पिता अपने बच्चों के लिए सब कुछ करना चाहते हैं, और उन्हें केवल अच्छी चीजें देना चाहते हैं। लेकिन, आपको निराश महसूस करने की कोई आवश्यकता नहीं है भले ही आप ऐसा नहीं कर सकते। जब आपके बच्चे बड़े होकर समझदार हो जाएंगे, वे आपके मन की गहराई को समझेंगे और वे अपने बचपन की अच्छी और पुरानी यादों को सोचते हुए आपके साथ मिलकर हंसेंगे। बच्चों को वास्तव में देने का विरासत धन नहीं, लेकिन एक शुक्रगुजार हृदय है जो छोटी बातों के लिए भी धन्यवाद देता है, और खुद को और पड़ोसियों को खुश और प्रचुरता महसूस कराने का रहस्य है।

जिस पल आप खुद की तुलना दूसरों से करते हैं, तभी खुशियां गायब हो जाती हैं

आपको क्या लगता है कि इनमें से कौन सा खिलाड़ी ज्यादा खुशी महसूस करेगा, एक रजत पदक विजेता या कांस्य पदक विजेता? क्या रजत पदक जीतने वाले को और ज्यादा खुश महसूस नहीं होना चाहिए? परन्तु, एक सामाजिक मनोवैज्ञानिक, विक्टोरिया मेदवेक के द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला कि जिन खिलाड़ियों ने कांस्य पदक जीता, वे उनकी तुलना में अधिक खुश थे जिन्होंने रजत पदक जीता। कोई भी पदक न मिलने के बजाय मात्र सम्मान प्राप्त करने और मंच पर खड़े होने की बात से ही कांस्य पदक विजेता खुश था, जबकि रजत पदक विजेता इस विचार से संतुष्ट नहीं था कि वह बारीकी से स्वर्ण पदक से चूक गया। इसका मतलब है कि उसने अपनी खुशी खो दी क्योंकि उसने स्वर्ण पदक विजेताओं के साथ खुद की तुलना की।

किसी और के साथ स्वयं की तुलना करने से उस व्यक्ति को हमेशा छोटा और दुखी महसूस होता है। यदि आपके परिचित व्यक्ति के साथ होने वाली अच्छी चीजों से आप ईर्ष्या करते हैं, तो यह आप के लिए कष्टदायक होगा। यदि आप केवल अन्य लोगों के बाहरी रूप, धन और क्षमताओं पर ध्यान केंद्रित करेंगे, तो आप खुद को और अपने परिवार के असली स्वभाव को नहीं देख सकेंगे।

अगर आप केवल अपने परिवार की तुलना दूसरे परिवार के साथ करेंगे और सोचेंगे, ‘उसका पति उसकी घर के काम में मदद करता है,’ ‘उसके माता-पिता उसे जो चाहिए, खरीदकर देते हैं,’ ‘मेरे दोस्त का पुत्र वास्तव में स्मार्ट है,’ इत्यादि, तो आप केवल अपने परिवार के बारे में असंतोष महसूस करेंगे। एक खुश व्यक्ति अपने पास की चीजों से संतुष्ट रहता है। जो अपने जीवन से संतुष्ट रहता है वह कोई ऐसा व्यक्ति नहीं है जिसके पास कोई इच्छा या आशा नहीं है, वह एक ऐसा व्यक्ति है जो अन्य लोगों या पर्यावरण से प्रभावित नहीं होता, बल्कि वह अपनी खुशी को ढूंढ़ लेता है और आनन्द से उस मार्ग पर चलता है।

अपनी इच्छा के अनुसार आपके परिवार को बदलने की कोशिश करना भी एक लालच है

क्या आप अपने परिवार को बदल सकते हैं? मैं निश्चित रूप से उन्हें कुछ अन्य लोगों के साथ अदला बदली करने की बात नहीं कर रहा, बल्कि इसकी बात कर रहा हूं कि उन्हें उस तरह बदल देना जैसा आप चाहते हैं या उन्हें उस तरह से जीने देना जिस तरह आप चाहते हैं कि वे जीएं। निष्कर्ष के तौर पर कहें, तो इस तरह का प्रयास व्यर्थ है। हर एक व्यक्ति के पास अलग रुचि, आदत और बात करने का तरीका होता है। जैसा कि एक कहावत है, “जो पालने में सीखा जाता है, वह कब्र तक याद रहता है,” एक व्यक्ति का चरित्र उसके बचपन से बनता है, या हो सकता है कि वह उसके साथ ही पैदा हुआ था। तो किसी को अपनी इच्छा के अनुसार बदलने की कोशिश करना सिर्फ लालच है, और यदि आप इस लालच को दूर नहीं फेंकते, तो यह केवल अधिक संघर्ष लाएगा।

बहुत से माता-पिता अपने बच्चों की राय सुने बिना उन्हें अत्यधिक शिक्षण देते हैं, या वे उनकी हर एक छोटी बात को नियंत्रित करते हैं, यहां तक कि उन बातों को भी जिन्हें उन्हें खुद तय करना चाहिए, और चाहते हैं कि वे माता-पिता का पालन करें। माता-पिता की ऐसी लालच उनके बच्चों को दुखी कर देती है। कुछ माता-पिता सिर्फ इसलिए अपने बच्चों के विवाह की अनुमति भी नहीं देते, क्योंकि वह व्यक्ति जिससे वे विवाह करना चाहते हैं, उनके मानकों या शर्तों को पूरा नहीं करता। माता-पिता को केवल अपने बच्चों को उनके खुद के जीवन को विकसित करने में सहायता करनी चाहिए। इस बात पर जोर देते हुए और उन्हें जिम्मेदार होने के लिए प्रोत्साहित करना उनकी मदद करने का तरीका है।

एक पति या पत्नी के रूप में, आपको अपने जीवनसाथी से केवल इसलिए नफरत नहीं करनी चाहिए क्योंकि वह आपकी इच्छा का पालन नहीं करता। बेहतर होगा कि आप एक उदार मन से उनके साथ व्यवहार करें। भले ही आप अपने जीवनसाथी के बारे में अप्रिय चीजें देखते हैं जो आपने पहले नहीं पहचानी थी, तो अफसोस न करें और अपने आपको यह कहते हुए दोष न दें, “मैं उस समय प्यार में अंधा हो गया था!” लेकिन स्नेहपूर्ण और विचारशील नजरों से अपने जीवनसाथी की ओर देखने की कोशिश करें। तब आप कमियों से अधिक गुण देखने में सक्षम होंगे।

हर कोई एक आदर्श परिवार का सपना देखता है। एक कोमल पिता, एक बुद्धिमान मां, अच्छे स्वभाव वाले बच्चे जो एक-दूसरे से प्यार करते हैं, एक सुशील बहू, एक भरोसेमंद दामाद… लेकिन, जैसे इस दुनिया में कोई आदर्श व्यक्ति नहीं होता, वैसे ही आपकी नजरों में सभी परिवार परिपूर्ण नहीं हो सकते। जैसे आप मॉल में जाकर सोच विचार करके चीजों को चुनते हैं, वैसे आप सोच विचार करके अपने परिवार को नहीं चुन सकते। एक परिवार लहू और प्रेम से जुड़ा हुआ है। इसलिए आपको अपने परिवार को जैसे वो हैं वैसे स्वीकार करना चाहिए।

जिससे आप प्रेम करते हैं, उससे प्रेम प्राप्त करने से ज्यादा खुशी की बात क्या हो सकती है? जिन लोगों को आप सबसे ज्यादा प्रेम करते हैं और वह लोग जिनसे आप सबसे ज्यादा प्रेम पाना चाहते हैं, वह आपका परिवार होगा। इसलिए, कृपया अपने मूल्यवान परिवार को आपकी इच्छा के अनुसार बदलने की कोशिश न करें, लेकिन इस बात के लिए आभारी रहें कि वे आपके साथ हैं, और एक साथ मिलकर इस कठोर दुनिया में ईमानदारी से जीने का उत्साह रखें।

किसी ने कहा है, “खुशी मैदान में खिले फूल को देखना है। लेकिन, लोगों को लगता है कि खुशी फूलों को तोड़कर उनकी हथेलियों पर रखना है। इसलिए खुशी कुम्हलाने लगती है जैसे ही वे इसे हथिया लेते हैं।” यदि आप इस वक्त दुख महसूस कर रहे हैं, तो देखिए कि क्या आप मैदान में खिले फूलों को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं या नहीं। इस बात के लिए धन्यवादी बने रहें कि आप फूलों को हवा में लहराते हुए देख सकते हैं, और इस तथ्य से संतुष्ट रहें कि आप ऐसे लोगों के साथ हैं जिनके साथ आप उनकी खुशबू बांट सकते हैं। तब, आपके हृदय में एक अधिक सुन्दर फूल खिल जाएगा। वह एक ऐसा फूल है जो कुम्हलाता नहीं है। इसे खुशी कही जाती है।