WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

5 फ़रवरी, 2021

परमेश्वर के साथ चलना

545 Views
FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

क्या आप कभी इस बात से निराश हुए हैं कि एक प्रसिद्ध यात्रा स्थल की दृश्यावली उतनी अच्छी नहीं थी जितनी आपने अपेक्षा की थी और आसपास की सुविधाएं भी घटिया स्तर की थीं? फिर भी, यदि वह यात्रा आपके मन पर सुखद स्मृति के रूप में अंकित होती है, तो इसकी बहुत अधिक संभवना है कि आप शायद वहां अपने मनपसंद लोगों के साथ गए थे। यदि आप एक समान विचार और एक समान शौक रखने वाले लोगों के साथ रहें, तो आप जहां कहीं भी रहें, और आप चाहे जो कुछ भी करें, आप जरूर संतुष्ट महसूस करेंगे।

परमेश्वर के साथ चलते समय भी ऐसा ही होता है। यदि परमेश्वर और आपके विचार एक जैसे हों, तो आप सदा आनन्दित रह सकते हैं, निरन्तर प्रार्थना कर सकते हैं, और हर बात में धन्यवाद दे सकते हैं(1थिस 5:16-18)। जब आप अपने अन्दर उन परमेश्वर का मन रखेंगे जो हमेशा हमारे उद्धार की परवाह करते हैं और सिर्फ भविष्य में हमें प्राप्त होने वाली उज्ज्वल महिमा का ख्याल रखते हैं, तब चाहे आपका विश्वास का मार्ग कितना ही कठोर क्यों न हो, आप उदास नहीं होंगे या हार नहीं मानेंगे।

यदि दो मनुष्य परस्पर सहमत न हो; तो क्या वे एक संग चल सकेंगे? आम 3:3

यदि परमेश्वर और आपके विचार, इच्छा और मन एक जैसे न हों, तो आपके लिए परमेश्वर के साथ चलना मुश्किल होगा। यदि आप परमेश्वर के साथ चलना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको जानना चाहिए कि परमेश्वर की इच्छा क्या है, और फिर अपने उन सभी विचारों और इच्छाओं को दूर फेंकना चाहिए जो परमेश्वर की इच्छा के विरुद्ध हैं।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS