WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

9 जून, 2019

वर्ष 2019 स्वर्गारोहण के दिन और पिन्तेकुस्त के दिन की पवित्र सभा

पवित्र आत्मा की सामर्थ्य से सात अरब लोगों को प्रचार करना

479 देखे जाने की संख्या

यीशु के पुनरुत्थान के 40 दिन बाद, यीशु का स्वर्गारोहण प्रथम चर्च की महान धार्मिक जागृति की शुरुआत थी। संत जिन्होंने यीशु के पुनरुत्थान और स्वर्गारोहण की सामर्थ्य देखी थी, विश्वास में अधिक मजबूत बन गए और पवित्र आत्मा प्राप्त करने के पश्चात उत्सुकता से अन्यजातियों को भी सुसमाचार का प्रचार करने लगे।

यीशु की इस आज्ञा के अनुसार, “तुम सारे जगत में जाकर सारी सृष्टि के लोगों को सुसमाचार प्रचार करो”(मर 16:15), चर्च ऑफ गॉड के सदस्य, जो सात अरब लोगों को प्रचार करने का आंदोलन चला रहे हैं, स्वर्गारोहण के दिन(30 मई) और पिन्तेकुस्त के दिन की पवित्र सभा(9 जून) में उपस्थित हुए।

स्वर्गारोहण के दिन की पवित्र सभा: यीशु की आज्ञा “मेरे गवाह बनो,” का पालन करना

नई यरूशलेम फानग्यो मंदिर में स्वर्गारोहण के दिन की पवित्र सभा में, माता ने, हमें पुनरुत्थान और स्वर्गारोहण की जीवित आशा देने के लिए पिता को धन्यवाद दिया, और यह इच्छा की कि सिय्योन के सारे सदस्य उस भविष्यवाणी को पूरा करें जो यीशु ने स्वर्ग जाने से पहले दी थी, “जब पवित्र आत्मा तुम पर आएगा तब तुम सामर्थ्य पाओगे; और यरूशलेम और सारे यहूदिया और सामरिया में, और पृथ्वी की छोर तक मेरे गवाह होगे”(प्रे 1:8)। प्रथम चर्च का उदाहरण लेते हुए, जिस पर पिन्तेकूस्त का पवित्र आत्मा उंडेला गया जब उन्होंने यीशु के स्वर्गारोहण के बाद एक जगह पर प्रार्थना की थी, माता ने कहा, “चूंकि प्रार्थना के बिना कुछ भी नहीं हो सकता, आइए हम यह विश्वास करते हुए कि पिता निश्चय ही उत्तर देंगे, अपने पूरे हृदय से पवित्र आत्मा के लिए प्रार्थना करें।”

प्रधान पादरी किम जू चिअल ने सदस्यों को प्रोत्साहित किया कि वे मसीह के गवाह के रूप में सारी मानवजाति को प्रचार करने के लिए पवित्र आत्मा की सामर्थ्य मांगें, और यह भी कहा, “हनोक और एलिय्याह के समान जो परमेश्वर को प्रसन्न करने वाले विश्वास के साथ परमेश्वर के साथ-साथ चलते थे, पिता और माता के साथ-साथ चलते हैं जो आत्माओं को बचाने से अधिक प्रसन्न होते हैं, वे पुनरुत्थान और स्वर्गारोहण की महिमा प्राप्त कर सकते हैं।” उन्होंने उनसे आशीष पाने के योग्य पर्याप्त विश्वास रखने को कहा(लूक 24:47-53; इब्र 11:5; मत 28:18-20; 1कुर 9:16-17; 1थिस 2:3-4)। सदस्यों ने उस दिन शाम से पिन्तेकुस्त के दिन तक, दस दिनों तक पवित्र आत्मा की शक्ति के लिए भोर और शाम को प्रार्थना की।

पिन्तेकुस्त का दिन: चर्च ऑफ गॉड पर उंडेला गया पवित्र आत्मा का कार्य

“जब पिन्तेकुस्त का दिन आया, तो वे सब एक जगह इकट्ठे थे… वे सब पवित्र आत्मा से भर गए” प्रे 2:1-4

पिन्तेकुस्त के दिन की पवित्र सभा में, माता ने उन सदस्यों पर पवित्र आत्मा उंडेले जाने के लिए प्रार्थना की जिन्होंने स्वर्गारोहण के दिन से पिन्तेकुस्त के दिन तक एक मन से प्रार्थना की। माता ने यह भी कहा, “मनुष्यों की शक्ति से सात अरब लोगों को प्रचार करना मुश्किल है, लेकिन जब हम पवित्र आत्मा प्राप्त करते हैं, तब कुछ भी अंसभव नहीं। आइए हम आत्मविश्वास रखें कि परमेश्वर जो हम पर पवित्र आत्मा उंडेल देते हैं, वह हमारे पिता हैं, और सारे लोगों को जो जीवन के जल के प्यासे हैं, उद्धार का संदेश दें।”

प्रधान पादरी ने यह कहते हुए सदस्यों को प्रबुद्ध किया, “दो हजार वर्ष पहले और आज भी, परमेश्वर चर्च ऑफ गॉड पर, जिसे उन्होंने स्थापित किया और नई वाचा प्रदान की, पवित्र आत्मा उंडेल देते हैं। पवित्र आत्मा प्राप्त किए चर्च और संतों की भूमिका परमेश्वर की ओर से संसार को चिताना और उनका नेतृत्व पश्चाताप और उद्धार की ओर करना है। जिस तरह प्रथम चर्च के संत पवित्र आत्मा प्राप्त करने के बाद चुपचाप नहीं रहे, परन्तु निडरता से प्रचार किया और 3 हजार या 5 हजार लोगों की अगुवाई परमेश्वर की ओर की, इस युग में भी जो सामरिया और पृथ्वी की छोर तक प्रचार करने के संकल्प को कार्यान्वित करता है वह पवित्र आत्मा के कार्य का अनुभव करेगा।” फिर उन्होंने सदस्यों को, सात अरब लोगों को प्रचार करने के आंदोलन की गति बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया(प्रे 2:41; यहेज 3:16-17; भज 19:1-4; यश 60:1-8; प्रे 1:12-15)।