WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

सब कुछ परमेश्वर द्वारा दिया गया

1शमूएल 30

736 देखे जाने की संख्या

दाऊद और उसके छह सौ साथी जन शाऊल से भागकर पलिश्तियों के सिकलग पहुंचे। अमालेकियों ने सिकलग पर हमला किया और उसमें सभी स्त्रियों और बेटे-बेटियों को बंदी बना लिया। दाऊद अपने छह सौ लोगों के साथ अमालेकियों का पीछा करता है, लेकिन जब वे बसोर नाले तक पहुंचते हैं, वे एक-एक करके थक जाते हैं। दाऊद उन लोगों को जो बहुत थक जाने से नाले को पार नहीं कर सकते, वहां रहकर सामान की रखवाली करने देता है, और बाकी चार सौ आदमियों के साथ अमालेकियों का पीछा करके बड़ी विजय प्राप्त करता है।

जैसा कि दाऊद और उसके साथी जन उन पत्नियों और बेटे-बेटियों जिन्हें अमालेकियों ने ले गया था और यहां तक कि लूट के माल को भी वापस बसोर नाले के पास ले आते हैं, लोग जिन्होंने वहां रहकर सामान की रखवाली की थी, दाऊद और उसके साथी लोगों से मिलने आते हैं। दाऊद उनके साथ पहले की तरह ही व्यवहार करता है। यह देखकर दाऊद के साथ गए चार सौ लोगों में से कुछ कुड़कुड़ाते हैं और कहते हैं,

“ये लोग हमारे साथ नहीं गए थे, इस कारण हम उन्हें अपने छुड़ाए हुए लूट के माल में से कुछ न देंगे। बस उन्हें अपनी स्त्रियों और बाल-बच्चों को देकर यहां से जाने दो।”

उनके दुष्ट इरादे को जानकर, दाऊद उनसे सख्ती से कहता है,

“वह परमेश्वर है जिसने हमारी रक्षा की है और उस दल को जिसने हमारे ऊपर चढ़ाई की थी हमारे हाथ में कर दिया। लड़ाई में जानेवाले का जैसा हिस्सा हो, सामान के पास बैठे हुए का भी वैसा हिस्सा होगा। दोनों एक ही समान हिस्सा पाएंगे।”

दाऊद और उसके साथी जनों के लड़ाई को जीतने में सक्षम होने का कारण परमेश्वर का यह निश्चित वादा था, “तू निश्चय ही उसको पकड़ेगा, और निसं:देह सब कुछ छुड़ा लाएगा(1शम 30:8)।” हालांकि, कुछ लोगों ने खुद को श्रेय दिया और लूट के माल के लिए लालच दिखाया। इसलिए दाऊद ने उन्हें स्पष्ट कर दिया कि वह परमेश्वर ही थे, जिन्होंने उन्हें जीत दिलाई और सारे लूट के माल हासिल करने दिया, और उसने इसे ऐसा नियम ठहराया कि युद्धभूमि पर लड़नेवाले और पीछे से रखवाली करनेवाले दोनों को लूट के माल बराबर बांटे जाएं।

प्रत्येक युग में, जिसके पास जीत की कुंजी है वह परमेश्वर हैं। यदि हम, जिन्हें सुसमाचार का कार्य सौंपा गया है, हमें दिए गए पद पर सुसमाचार के मिशन को ईमानदारी से निभाएं, तो परमेश्वर जो न्यायी हैं, हम सभी को आशीष देंगे।