WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

उनसे कहना, “प्रभु को इस का प्रयोजन है”

मरकुस 11:1-7

522 देखे जाने की संख्या

जब वे यरूशलेम के निकट पहुंचे, तो यीशु ने गांव में दो चेलों को भेजा।

“सामने के गांव में जाओ, और उस में पहुंचते ही एक गदही का बच्चा, जिस पर कभी कोई नहीं चढ़ा, बंधा हुआ तुम्हें मिलेगा। उसे खोल लाओ। यदि तुम से कोई पूछे, ‘यह क्यों करते हो?’ तो कहना, ‘प्रभु को इस का प्रयोजन है,’ और वह शीघ्र उसे यहां भेज देगा।”

जब चेले गांव में गए, तो उन्होंने गदही के बच्चे को बाहर द्वार के पास चौक में बंधा हुआ पाया जैसा यीशु ने कहा था। जब चेलों ने उसे ले जाने के लिए रस्सी को खोला, उनमें से जो वहां खड़े हैं, एक आदमी ने पूछा, “तुम उसे क्यों खोल रहे हो?”

“प्रभु ने कहा कि उन्हें इस का प्रयोजन है।”

उनके जवाब पर मालिक ने उन्हें गदही का बच्चा ले जाने दिया। तब यीशु गदही के बच्चे पर बैठकर यरूशलेम में गए जिसे चेलों ने लाया।

यीशु जानता था कि क्रूस पर दुख उठाने का समय नजदीक है, इसलिए यीशु ने चेलों को गदही के बच्चे को लाने के लिए कहा। यह जकर्याह नबी की भविष्यवाणी को पूरा करने के लिए था, “क्योंकि तेरा राजा तेरे पास आएगा; वह धर्मी और उद्धार पाया हुआ है, वह दीन है, और गदहे पर वरन् गदही के बच्चे पर चढ़ा हुआ आएगा”(जक 9:9)। इस भविष्यवाणी को पूरा करने में कमजोर गदही के बच्चे और साधारण मालिक का जिसने इस वचन पर कि “प्रभु को इस का प्रयोजन है,” गदही के बच्चे को ले जाने दिया था, इस्तेमाल किया गया था।

हम इस वचन को पूरा करने के लिए परमेश्वर के द्वारा बुलाए गए हैं, “राज्य का यह सुसमाचार सारे जगत में प्रचार किया जाएगा, कि सब जातियों पर गवाही हो(मत 24:14)।” बाइबल की भविष्यवाणी के लिए जो निश्चित रूप से पूरी हो जाएगी, अत्यंत साधारण प्राणियों का सुसमाचार के उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। इससे बड़ी आशीष और क्या हो सकती है? इस तरह की भारी आशीष के लिए एकमात्र चीज जो हम कर सकते हैं, वह परमेश्वर की आज्ञा का अधिक विनम्रता से पालन करना है, ताकि हम परमेश्वर के द्वारा इस्तेमाल किए जाने के योग्य उपकरण बन सकें।