WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

“आइए हम परिवार की बैठक रखें!”

परिवार की बैठक संवाद का सबसे अच्छा साधन है

839 देखे जाने की संख्या

स्कूल में कक्षा की बैठक होती है, और कंपनियां टीम की बैठक और मुख्य कार्यकारियों की बैठक जैसी विभिन्न प्रकार की बैठकों को आयोजित करती हैं। बैठक का आयोजन करना संगठन के संचालन के लिए उचित और आवश्यक है। परिवार भी एक संगठन है जो समाज का निर्माण करता है, और आपसी समझ और समझौते के लिए बैठक आवश्यक है।

जब लोगों से पूछा जाता है, “क्या आप परिवार की बैठक करते हैं?” तब ज्यादातर लोग कहते हैं, “हम मुश्किल से एक–दूसरे को देखते हैं,” “मेरा बच्चा अब भी बहुत छोटा है,” “हमें बैठक में क्या बात करनी है?” “उन्हें बस मेरा कहना सुनने की जरूरत है! हमें बैठक की जरूरत नहीं है!” इस तरह, ज्यादातर लोग सोचते हैं कि उन्हें परिवार की बैठक की जरूरत नहीं है। व्यस्त औद्योगिक जीवन जीते हुए, माता–पिता काम में व्यस्त हैं, और बच्चे स्कूल में व्यस्त हैं। इसलिए भले ही ज्यादातर परिवारों में बहुत से सदस्य नहीं हैं, फिर भी उनका एक साथ मिलना बहुत मुश्किल है। जब वे एक साथ इकट्ठे होते हैं, तब भी कुछ सदस्य बैठक के बीच में वहां छोड़कर चले जाते हैं क्योंकि उनके पास कहने के लिए कुछ नहीं होता।

परिवार की बैठक घर में होनी वाली बड़ी और छोटी समस्याओं को सुलझाने के लिए पहला कदम है। नजदीकी रिश्ता और सदस्यों के बीच सामंजस्य बनाने के लिए भी यह संवाद का एक साधन है। यदि आपने उसे अब तक नहीं किया है, तो क्यों न आप कोशिश करें? पहले आपको अजीब लग सकता है, लेकिन जैसे–जैसे समय बीतेगा, आप बैठक के समय की आशा करेंगे।

परिवार की बैठक के बारे में अच्छी बातें

परिवार के सदस्यों के लिए भी संवाद तब हो सकता है जब वे एक-दूसरे के साथ अपने सच्चे विचारों को बांटते हैं। इसलिए परिवार की बैठक ईमानदार रहने और अपने हृदयों को खोलने का अच्छा अवसर है। चूंकि उन्हें पता चलता है कि दूसरे सदस्य के पास किस प्रकार के विचार और भावनाएं हैं, इसलिए सदस्यों के बीच का बंधन मजबूत बन सकता है। साथ ही, चूंकि वे विश्वास करते हैं कि दूसरे सदस्य अपने विचार और दिलचस्प विषय की परवाह करते हैं, तो उनका आत्म-सम्मान बढ़ जाता है।

परिवार की बैठक में, यदि वे उसके बारे में बात करें जिसका माता-पिता एकतरफा फैसला किया करते थे, तो संवाद की सीमा विस्तृत हो जाती है। यदि वे एक साथ नियमों को चुनें और एक साथ समस्याओं को सुलझाएं, तो वे महसूस कर सकते हैं कि वे एक ही नाव में हैं। उस तरह, वे एक साथ काम कर सकते हैं और सदस्यों के बीच के मतभेद को कम कर सकते हैं।

यदि परिवार की बैठक नियमित कार्यक्रम बने, तो बच्चों को अपने विचारों को व्यक्त करने का अवसर दिया जाएगा। तब वे कम विद्रोह करते हैं, और वे यह सीखकर कि अनुचित कारण या अनुरोध क्या हैं, एकतरफे अनुरोधों की मांग नहीं करते। और वे सीख सकते हैं कि कैसे दूसरे लोगों की राय सुननी है और उन्हें समझना है। उस तरह, वे तार्किक रूप से बात करने और अपने विचारों का आयोजन करने की आदत बना सकते हैं।

परिवार की बैठक रखकर माता-पिता अपने बच्चों को अधिक प्रभावशाली रूप से बड़ा कर सकते हैं। बच्चों के अनुरोध को काटने के बजाय, वे कह सकते हैं, “क्यों न हम परिवार की बैठक में उसके बारे में बात करें?” “अगली बैठक में बात करने के लिए हमारे पास अच्छा विषय है।” यदि माता–पिता अपने बच्चों के अनुरोध को अगली बैठक के लिए एक विषय के रूप में जताएं, तो वे अनावश्यक झगड़ों को टाल सकते हैं और अगली बैठक तक समस्याओं को बड़ा बनने से रोक सकते हैं।

एक माता ने जिसने नियमित रूप से परिवार की बैठक रखी, कहा कि उसने परिवार की बैठक इसलिए शुरू की क्योंकि वह अपने बच्चों पर बड़बड़ा कर थक गई थी और उसे लगा था जैसे वह उनसे दूर हो रही थी। आखिर में, परिवार की बैठक ने उसे अपने बच्चों पर बड़बड़ाने या उन्हें फटकारने के बजाय उनके साथ बात करने में सक्षम बनाया।

परिवार की बैठक में हमें क्या बात करनी चाहिए?

परिवार की बैठक शुरू करने से पहले, एक-दूसरे की अच्छी बातों के लिए या उन बातों के लिए जो वे सुधार रहे हैं, प्रशंसा करने का कुछ समय लें, और वह बांटें जिसके लिए आप आभारी हैं। ऐसा करके, आप अपने परिवार का मनोबल बढ़ा सकते हैं और उज्ज्वल और मैत्रीपूर्ण माहौल बना सकते हैं।

बैठक का विषय कुछ भी हो सकता है जिसे सभी सदस्य बांट सकते हैं। आप घर के कामों को बांटने के बारे में कुछ नियम बना सकते हैं जैसे कि कूड़ा बाहर निकालना, घर की सफाई करना इत्यादि, और आप इस विषय पर बात कर सकते हैं कि किस बात के बारे में सदस्यों को असुविधाजनक लगता है या किस चीज को सदस्य ठीक करना चाहते हैं। आप परिवार की आर्थिक स्थिति के बारे में या जन्मदिन, राष्ट्रीय छुट्टियां और परीक्षा जैसी आने वाली घटनाओं के बारे में बात कर सकते हैं। आप एक साथ मेन्यू बनाने के लिए विचारों को भी इकट्ठा कर सकते हैं। आप विषय-सूची को एक जगह पर पोस्ट कर सकते हैं जहां हर कोई आसानी से पहुंच सकता है, और इससे उन्हें बैठक से पहले उसके बारे में सोचने का समय दे सकते हैं, तब बैठक सहज हो सकती है। साथ ही, फैसला की हुई चीजों को एक जगह पर पोस्ट करें ताकि हर कोई उसे याद रख सके।

यदि परिवार की बैठक न्याय करने का समय बनती है, तो टकराव गंभीर हो सकते हैं। इसलिए, सदस्य के गलत कार्य को प्रकट करने या उस पर दोष लगाने की बात को टाल देना चाहिए। यदि आप किसी बच्चे को अनुशासित करना चाहते हों, तो बेहतर होगा कि आप बैठक में नहीं, लेकिन अकेले में उससे बात करें।

परिवार की बैठक भारी नहीं होनी चाहिए। आप बहुत सारी अलग–अलग चीजों के बारे में बात कर सकते हैं: चीज जिसके लिए आप दूसरे सदस्य से माफी मांगना चाहते हैं, एक अच्छा वाक्य जो आपने किताब में पढ़ा, कुछ मजेदार कहानियां जो आपने अपने दोस्तों से सुनीं, कुछ बात जो आपके साथ घटी, जीवन की बुद्धि की एक अच्छी कहानी और सबक, समाज में कुछ मुद्दे इत्यादि।

कभी–कभी आप एक विशेष समय तैयार कर सकते हैं: एक कविता सुनाना, एक पुरानी तस्वीर के द्वारा खुद को एक पुरानी याद दिलाना, सदस्यों के साथ एक खेल खेलना, एक–दूसरे के लिए एक पत्र पढ़ना या कुछ छोटे व महत्वपूर्ण उपहारों का आदान–प्रदान करना। यदि आप इस तरह से भावनात्मक बंधन बनाएं, तो सदस्य एक–दूसरे से और अधिक प्रेम करेंगे।

परिवार की बैठक को इस तरह करने की कोशिश करें

बहुत से लोगों को परिवार की बैठक रखने के बारे में सोचकर बोझिल महसूस होता है। मगर, एक परिवार की बैठक कुछ दिखावटी नहीं, लेकिन आरामदायक है जहां सभी सदस्य बात कर सकते हैं। बैठक का संचालन करने की कोई निश्चित प्रक्रिया नहीं है, लेकिन आम तौर पर बैठक उद्घाटन से शुरू होती है, और उसमें सुझाव देना, चर्चा करना, समापन इत्यादि जैसा क्रम है। आप उसमें जो चाहें वह जोड़ सकते हैं। यदि प्रक्रिया अधिक सख्त है, तो बैठक दमनकारी हो जाएगी; इसलिए बेहतर होगा कि वह माहौल के आधार पर लचीली हो। यह प्रभावशाली परिवार की बैठक के लिए कुछ सुझाव है।

1. सभी सदस्य बैठक में भाग लें

परिवार की बैठक तभी रखना अच्छा है जब सभी के पास खाली समय हो। यदि आप अपने दामाद या बहू या फिर सास–ससुर के साथ रहते हैं, तो सभी को उसमें भाग लेने दीजिए। यदि आपके पास शिशु या छोटा बच्चा हो, तो उसके सोने के बाद बैठक करना बेहतर होगा। यदि किसी सदस्य को बैठक में भाग लेना पसंद नहीं है, तो कृपया उसे बैठक के बारे में अच्छी बातें और नतीजा जानने दें, ताकि वह अगली बैठक में भाग ले सके।

2. उसे नियमित रूप से करें

निश्चित तारीखों पर उसे नियमित रूप से करें, न कि सिर्फ जब वह जरूरी हो। सप्ताह में एक बार करना अच्छा है। यदि आप किसी अपरिहार्य कारण की वजह से नियुक्त किए दिन पर बैठक नहीं कर सकते, तो उसे एक दिन पहले या उसके अगले दिन करें, ताकि आप बैठक को जारी रख सकें। परिवार के सदस्य बैठक को दूसरे वादों के समान महत्वपूर्ण मानें, ताकि वह बाधित न हो सके। यदि टीवी चालू है, तो उसे बन्द करें, और यदि आपको फोन करना है, तो लंबे समय तक फोन पर बात न करें या उसे स्थगित करें।

3. भूमिकाओं को विभाजित करें

बैठक को चलाने के लिए एक अध्यक्ष को और मिनिटबुक लिखने के लिए सचिव को नियुक्त करें। बारी–बारी से करने का प्रयास करें। यदि पहली बार परिवार की बैठक हो रही है, या यदि बच्चे बहुत छोटे हैं, तो अच्छा होगा कि माता-पिता बैठक का नेतृत्व करें, लेकिन यदि बच्चे प्राथमिक स्कूल जाते हैं या बड़े हैं, तो बेहतर होगा कि वे उसका नेतृत्व करें।

4. आदरसूचक शब्दों का उपयोग करें

बैठक के दौरान सम्मानपूर्ण शब्दों का इस्तेमाल करना अच्छा है। यदि आप आदरसूचक शब्दों का इस्तेमाल करें, तो चूंकि आप सुननेवालों का आदर करते हैं, अनजाने में आप अधिक सावधान होते हैं। जब आप अपने परिवार के सदस्यों से कुछ कहें जो आप चाहते हैं कि वे करें, तो सलाह देने या आशा जताने के अंदाज में कहें, “बहुत अच्छा होगा यदि आप करें…” ताकि माहौल कठोर न हो।

5. हर एक को बात करने का मौका दिया जाए

परिवार की बैठक में यह हो सकता है कि बच्चों से ज्यादा माता–पिता अधिक बातें करते हैं और बैठक को एकाधिकृत करते हैं। बेहतर होगा कि बच्चों को पहले बात करने का मौका दिया जाए, उनके सुझाव सुने जाएं, और फिर माता–पिता बात करें। यदि बच्चे हिचकिचा रहे हों, तो जब वे तैयार हों, तब उन्हें कहने के लिए प्रोत्साहित करें। बैठक के अध्यक्ष को विचारशील होना चाहिए ताकि हर एक को बात करने का मौका दिया जा सके।

6. सर्वसम्मति से निर्णय लें

लोकतंत्र का सिद्धांत है कि बहुमत विजय होते हैं। लेकिन, परिवार की बैठक में बेहतर होगा कि निर्णय पर हर किसी की सहमति हो। यह इसलिए है क्योंकि जिस किसी के पास अलग राय हो, उसे अकेला महसूस होगा। यदि हर कोई निर्णय से सहमत न हो, तो नए विचार के बारे में सोचने का समय लेते हुए उसे अगली बैठक तक थामे रहें। फिर भी यदि कोई राय से सहमत न हो, तो माता–पिता को आखिरी निर्णय लेना चाहिए और अपने बच्चों को उसे समझने में मदद करनी चाहिए।

7. जो निर्णय लिया गया है उसे अभ्यास में लाना सुनिश्चित करें

जब किसी बात का निर्णय लिया जाए, तब उसे अभ्यास में लाना सुनिश्चित करें और कुछ पुरस्कार या सजा का फैसला करें। सजा ऐसी होनी चाहिए जिससे दूसरे सदस्यों को लाभ होता है और उसे करनेवाला भी खुशी से वह कार्य कर सकता है। यदि माता–पिता प्रतिज्ञा पूरा करने और नियमों को मानने का नमूना दिखाएं, तो बच्चे उनके नमूने का पालन करेंगे। यदि माता–पिता प्रतिज्ञा करते हुए भी उसे पूरा नहीं करते, तो बच्चे अपने माता–पिता के शब्दों को हल्के से लेंगे।

8. इन चीजों के बारे में सावधान रहना

  • अपनी राय पर ही जोर न दीजिए।
  • किसी की बात न काटिए और उस पर दोष न लगाइए।
  • टाइट योजना को न बनाइए।
  • अत्यधिक दबाव न दीजिए।
  • बैठक को ज्यादा लंबा न बनाइए।(एक घंटा या उससे कम समय अच्छा है।)

परिवार की बैठक इस मायने में सार्थक है कि सभी सदस्य इकट्ठे होते हैं और सामंजस्य पैदा होता है। इसलिए, बैठक को केवल घर में करने की जरूरत नहीं है। आप तब बैठक कर सकते हैं जब आप बाहर एक साथ खाते हैं या एक साथ पिकनिक पर जाते हैं। आप उसे गाड़ी में भी कर सकते हैं जब आप लंबी दूरी पर जाते हैं। जब बैठक समाप्त होती है, तब हमेशा ताली बजाएं और एक दूसरे को गले लगाएं। इससे सदस्यों को यह महसूस करने में मदद होगी कि उन्होंने कुछ हासिल किया है।