WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

17 जुलाई, 2019

परमेश्वर की ओर लौटकर

कोरिया के चांगवोन से चू मायोंग-गुक

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

मैं जवानी के दिनों में कुछ वर्षों के लिए जहाज पर काम किया करता था। जब भी मैं जमीन से दूर समुद्र में होता था, तो मुझे ऐसा लगता था कि मैं परमेश्वर से दूर हो रहा हूं। सच कहूं तो, मैं पहले से ही परमेश्वर से दूर हो गया था। क्योंकि मैंने जो मेहनत से एक प्रोटेस्टेंट चर्च जाया करता था, किसी जमाने में चर्च जाना बंद कर दिया था; मैं वास्तव में नहीं जानता था कि विश्वास से भरा सच्चा कार्य क्या होता है। हालांकि, मैंने अपना विश्वास नहीं छोड़ा था; मेरे हृदय के एक कोने में हमेशा एक विचार रहता था कि मैं किसी न किसी दिन परमेश्वर के पास लौटूंगा।

अपने संकल्प को अमल में लाने के लिए, मैंने अपनी समुद्री जहाज पर नौकरी छोड़ दी और जमीन पर एक साधारण नौकरी करना शुरू कर दिया। लेकिन, मैं अपने आपको जमीन के जीवन के अनुकूल नहीं बना सका और इसलिए परमेश्वर के पास लौटने की बात तो दूर, मैं फिर से जहाज पर काम करने के बारे में सोचने लगा।

मेरी योजनाओं पर उस समय विराम लग गया जब मैंने सुना कि वह जहाज जिस पर मैं काम के लिए जाता था, डूब गया और उस पर काम करने वाले सभी चालक दल की मृत्यु हो गई है। इस बात का एहसास करते हुए कि सच में मानव जीवन का थोड़ा सा भी अनुमान नहीं लगा सकता, मैंने कभी समुद्र में वापस जाने का विचार नहीं किया। मैं आखिरकार शादी करने के बाद परमेश्वर के पास लौट सका। मेरी पत्नी ने चर्च ऑफ गॉड जाना शुरू किया था, और इसलिए मैं परमेश्वर की बांहों में आ गया। उस समय के आसपास, मैं शारीरिक और आत्मिक रूप से थका हुआ था क्योंकि चीजें मेरे लिए अच्छी नहीं हो रही थीं, और सच्चाई के वचनों ने मुझे बहुत आराम दिया। इसी वजह से, मुझे सच में परमेश्वर से मिलने का समय पसंद आया। लेकिन, मेरे काम के कारण सभी आराधनाओं में उपस्थित होना कठिन था।

सब्त की सभी आराधना रखने के लिए मैंने परमेश्वर से प्रार्थना की, और मुझे एक नई नौकरी मिल गई। यहां भी शनिवार को काम करने की आवश्यकता थी, लेकिन यहां मुझे थोड़ा बहुत खाली समय मिल जाता था, जिससे मुझे बाइबल का अध्ययन करने और अपने सहकर्मियों को जितना मैं जानता था उतना सच्चाई का प्रचार करने की अनुमति मिलती थी। ऐसा करते हुए, पिता और माता का बलिदान और प्रेम अधिक से अधिक मेरे हृदय में उत्कीर्ण हुआ, और मैं सुसमाचार प्रचार करने के लिए प्रज्वलित होने लगा। मैं हमेशा सोचता रहता था, ‘परमेश्वर जो मुझ जैसे एक पापी से इतना प्रेम करते हैं, उनका अनुग्रह लौटाने के लिए मैं क्या कर सकता हूं?’ मैंने सोचा कि सबसे पहले जो मुझे करना चाहिए वह ईमानदारी से परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करना है।

दृढ़ता से प्रार्थना करने के बाद, मैंने अपने बॉस से कहा कि भले ही मुझे रविवार को काम करना पड़े, मैं शनिवार को सब्त की आराधना रखना चाहता हूं। परिणाम मेरे अनुमान से कहीं बेहतर था। मेरे बॉस ने यह कहकर कि मैं एक मेहनती कार्यकर्ता हूं, मुझे शनिवार को आराधना रखने और कुछ कार्यभार होने पर रविवार को काम पर आने की मंजूरी दे दी। मैं अति प्रसन्न था। शुद्ध सोने से अधिक मूल्यवान मेरे अनुभव ने जो परमेश्वर पर निर्भर रहकर परमेश्वर की आज्ञाओं को रखने में सक्षम हुआ, मुझे विश्वास में मजबूत होने के लिए प्रोत्साहित किया।

परमेश्वर से मिलने से पहले, मैं अपने परिवार को बहुत दुःख दिया करता था। कठोर समुद्र में काम करने से बना मेरा कठोर व्यक्तित्व और सुख विलास भोगने की आदत से मेरे माता-पिता और पत्नी को बहुत ज्यादा पीड़ा हुई थी। मुझे जानने वाले लोगों ने और यहां तक कि मैंने भी कभी उम्मीद नहीं की थी कि मैं बदल जाऊंगा। लेकिन, एलोहीम परमेश्वर वास्तव में सृष्टिकर्ता परमेश्वर हैं जो सब कुछ बदलने में सक्षम हैं। जब मैं सीख रहा था कि परमेश्वर मुझ जैसे एक पापी पर कितनी दया करते हैं और परमेश्वर मुझसे कितना प्रेम करते हैं, तब मैं थोड़ा-थोड़ा करके बदल गया। जैसे ही मैंने पिता के वचनों के द्वारा अपने पापों का पश्चाताप किया और एक-एक करके माता की शिक्षाओं को कार्य में लाया, तो मुझे काम पर स्वीकृति मिली और मैं अपनी बुरी आदतों से भी छुटकारा पा सका।

यह विश्वास हासिल करने के बाद कि यदि मैं उत्सुकता से चाहूं तो सभी चीजें परमेश्वर पूरा करते हैं, मैंने अपने परिवार और अपने आस-पास के लोगों को साहसपूर्वक प्रचार करना शुरू किया। परिणामस्वरूप, मेरी मां को एक फल के रूप में मुझे दिया गया। मेरी मां ने मेरे हृदय पर स्वर्गीय माता के गहरे प्रेम को उकेरा था, चाहे वह थोड़ा सा ही हो। सभी प्रकार के कपड़े और भोजन देने के बाद भी मेरी मां को जीवन भर यह बात बुरी लगती थी कि उसने अपने बच्चों को ज्यादा कुछ नहीं दिया है। हमारे अनंत स्वर्गीय माता के सच्चे प्रेम को समझने के लिए मेरी मां का अत्यंत प्रेम और बलिदान मेरे लिए पर्याप्त था। सबसे अच्छा संतानोचित कर्तव्य जो मैं अपनी मां के लिए कर सकता था, जिसने मुझे आसानी से परमेश्वर खोजने में मदद की, उसे परमेश्वर से मिलने में मदद करना था, और मेरी मां मेरा संतानोचित कर्तव्य स्वीकार करने के लिए तैयार थी।

एक स्वर्गीय परिवार का सदस्य जो काम पर मुझे मिला था, वह भी परमेश्वर की ओर से एक उपहार था। वह मेरा सहकर्मी है, उसके उज्ज्वल व्यक्तित्व के कारण हम बहुत ही जल्दी से एक दूसरे के नजदीक आ गए। हालांकि, मुझे कभी-कभी लगता था कि उसकी हंसी के पीछे दर्द छिपा हुआ है। मुझे लगता था कि वह किसी तकलीफ से गुजर रहा है, और यकीनन, एक दिन वह मेरे पास आया और मुझे बताया कि वह किस चीज से गुजर रहा था।

उसे सांत्वना देने के दौरान, मैंने उसे एलोहीम परमेश्वर के प्रेम के बारे में प्रचार किया जो हमारे घावों को भर देते हैं। सच्चाई सुनने के बाद उसने परमेश्वर के अस्तित्व पर विश्वास किया। उसने सिय्योन में आकर नए जीवन की आशीष को प्राप्त किया। बाद में, मुझे पता चला कि वह एक ऐसे अत्यंत कठिन समय से गुजर रहा था कि वह सोचने पर मजबूर हो गया कि वह इसे और बर्दाश्त नहीं कर सकता। मेरा मानना है कि उसे बचाने के लिए परमेश्वर ने उसके कदम मेरी ओर मोड़ दिए।

उसी की तरह, जब मैं कठिन समय से गुजर रहा था तब मैं सच्चे परमेश्वर से मिला और एक ऐसा सुकून प्राप्त हुआ जो दुनिया नहीं दे सकता। मैं परमेश्वर का शुक्रगुजार हूं और साथ ही साथ खुद पर शर्मिंदा भी हूं कि मैं परमेश्वर को उनके अनुग्रह का बदला पर्याप्त रूप से नहीं चुका रहा।

दुनिया में अभी भी ऐसी कई सारी आत्माएं होंगी, जो परमेश्वर के पास लौटने के लिए तरस रही हैं। मैं अपनी पूरी शक्ति से सुसमाचार का प्रचार करूंगा और चाहे वह थोड़ा सा ही हो, मैं स्वर्गीय माता को सांत्वना दूंगा जो उत्सुकता से अपनी संतानों की तलाश कर रही हैं।

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS