WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

परिवार के हर सदस्य घर का स्वामी है!

471 देखे जाने की संख्या

यदि रस्सी खींचने वाले एक व्यक्ति की शक्ति 100 है, तो सैद्धांतिक रूप से यह दो व्यक्तियों के लिए 200 और तीन व्यक्तियों के लिए 300 होनी चाहिए। हालांकि, रस्साकशी के द्वारा किए गए प्रयोग का परिणाम दिखाता है कि जब दो व्यक्ति थे, तब एक व्यक्ति की शक्ति का 93% उपयोग किया गया था, जब तीन व्यक्ति थे, तब 85% और जब आठ व्यक्ति थे, केवल 49% उपयोग किया गया था। जैसे ही समूह में लोगों की संख्या बढ़ती है, किसी कार्य में एक व्यक्ति का योगदान कम हो जाता है। इसे रिंगेलमैन प्रभाव कहा जाता है।

यह इस विचार के कारण होता है, ‘यद्यपि मैं नहीं करता, कोई और करेगा।’ घर में भी ऐसा ही होता है। आपका घर वह जगह है जहां आपके परिवार के सभी सदस्य एक साथ रहते हैं, लेकिन कभी-कभी वे घर के कामों को एक दूसरे को सौंप देते हैं। क्या होगा यदि आप आदत से उस काम को दूसरे को सौंप दें जो आपको एक साथ मिलकर करना चाहिए? ऐसा होने की अधिक संभावना है कि काम अच्छी तरह से नहीं किया जाएगा, और चाहे काम अच्छे से किया जाता है, फिर भी अन्य सदस्य असंतुष्ट होंगे।

परिवार के हर सदस्य घर का स्वामी है। यदि सभी सदस्य एक स्वामी के मन से जिम्मेदारी लेते हैं, तो वे सहक्रिया प्रभाव(दो या दो से अधिक व्यक्तियों के एक साथ काम करने पर अधिक सफल परिणाम लाना) पैदा कर सकते हैं, न कि रिंगेलमैन प्रभाव।

टिप्स
अपने घरेलू कामकाज में रुचि रखें।
यदि आप ऐसा काम देखते हैं जो किया जाना चाहिए, तो इसे सक्रिय रूप से करें।
एक दूसरे से पूछें कि क्या उन्हें किसी मदद की जरूरत है।
यदि कोई घरेलू कामकाज कर रहा है, तो एक साथ काम करें।
एक साथ भोजन तैयार करें।
सभी घर के मामलों पर एक साथ चर्चा करें और निर्णय लें।
घर में ऊर्जा बचाएं।
परिवार के नियमों का पालन करें।
परिवार के कार्यक्रमों में सक्रिय रूप से भाग लें।