WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

सत्य

फसह

1528 देखे जाने की संख्या

यीशु ने उनसे कहा, “मैं तुम से सच सच कहता हूं कि जब तक तुम मनुष्य के पुत्र का मांस न खाओ, और उसका लहू न पीओ, तुम में जीवन नहीं।“यूह 6:53

फसह का पर्व वह पर्व है, जिसके द्वारा विपत्ति हमें छोड़कर गुजर जाती है। यह पर्व पवित्र कैलेंडर के अनुसार पहले महीने के चौदहवें दिन गोधूलि के समय मनाया जाता है।

फहस वह दिन था जब 3,500 वर्ष पहले इस्राएली मेमने के लहू के द्वारा विपत्ति से बचाए गए और मिस्र देश से छुड़ाए गए जहां वे गुलाम रहे थे। फसह के दिन परमेश्वर ने सारी विपत्तियों से इस्राएलियों को बचाने का वादा किया और इस्राएलियों को आज्ञा दी कि वे हर वर्ष उस दिन को सदा की विधि के रूप में पर्व करके मानें(निर्ग 12:1–14)।

2,000 वर्ष पहले क्रूस पर चढ़ाए जाने से एक दिन पहले गोधूलि के समय, यीशु ने वादा किया कि फसह की रोटी मसीह का मांस है और फसह का दाखमधु मसीह का लहू है। इसलिए फसह के पर्व के द्वारा, मानव जाति यीशु के मांस और लहू से दर्शाए गए फसह की रोटी और दाखमधु खाकर और पीकर अंतिम विपत्तियों से सुरक्षित हो सकती है और अनन्त जीवन पा सकती है(यूह 6:53–58; मत 26:17–19, 26–28)।

यीशु, उनके चेले और प्रथम चर्च के सभी संतों ने फसह का पर्व मनाया(मत 26:17; 1कुर 11:23–26)। लेकिन 325 ई. में सम्राट कॉन्सटेंटाइन के द्वारा आयोजित निकिया परिषद में फसह का पर्व पूरी तरह से मिटा दिया गया था, और उसके बाद 1,600 वर्षों तक नहीं मनाया गया। लेकिन बाइबल की भविष्यवाणियों के अनुसार परमेश्वर ने स्वयं फसह के पर्व को फिर से स्थापित किया, जिससे दुनिया भर में केवल चर्च ऑफ गॉड फसह का पर्व पवित्रता से मना रहा है(यश 25:6–9)।