WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

क्या पति-पत्नियों के झगड़े जल्द ही मिट जाते हैं?

2004 देखे जाने की संख्या

बहस करने के बाद तुरंत एक दूसरे के साथ सुलह कर लेना अच्छा है, लेकिन एक बहस को झगड़े में न बदलने देना बेहतर है।

पति और पत्नी दुश्मनों की तरह झगड़ा कर सकते हैं, लेकिन फिर वे जल्द ही एक दूसरे के साथ सुलह कर लेते हैं जैसे कि कुछ हुआ ही नहीं। इसलिए यह कहावत है कि, “पति-पत्नियों के झगड़े जल्द ही मिट जाते हैं।” लेकिन, यह पुराने समय की बात बन गई है। साल दर साल तलाक की दर बढ़ती रहती है, और पति और पत्नी के बीच झगड़ा करते हुए क्रोध में आकर घर को जला देने जैसी बहुत सी दुर्घटनाएं और अपराध घटित होते हैं।

लोग कहते हैं कि तूफान के बाद शांति आती है। लेकिन यदि वह हद से ज्यादा हो, तो तूफान नियंत्रण से बाहर हो जाता है। यदि मिट्टी के बर्तन में दरार आ जाती है, तो वह आखिरकार टूट ही जाता है। उसी तरह से, यदि पति और पत्नी के बीच झगड़ा जारी रहता है, चाहे वह कितना ही छोटा क्यों न हो, वे संभवत: इस बात से थक जाएंगे और एक दूसरे से दूर हो जाएंगे। शादीशुदा लोगों के बीच कोई टकराव न होना असंभव है, लेकिन बुद्धिमान पति-पत्नी टकराव को झगड़े में बदलने से रोकने का प्रयास करते हैं।

प्रेम करने के कारण विवाह करने पर भी वे झगड़ा क्यों करते हैं?

एक पति और उसकी पत्नी झगड़ा करने के बाद इस बात को लेकर अदालत में चले गए कि उन्हें उबले हुए आलू चीनी के साथ खाने चाहिए या फिर नामक के साथ। उनकी कहानी सुनने के बाद, न्यायाधीश ने कहा, “मैं उन्हें लाल मिर्च पेस्ट के साथ खाता हूं।”

शादीशुदा जोड़ों के बीच टकराव उत्पन्न होने का कारण यह है कि वे एक दूसरे से अलग होते हैं। उनके सोचने का ढंग और बोलने का ढंग अलग-अलग हैं, और उनका पसंदीदा स्वाद भी अलग-अलग होता है। उनके सोने का तरीका अलग-अलग होता है, और टूथब्रश पर टूथपेस्ट लगाने के उनका तरीका भी अलग होता है। यहां तक कि एक ही समय में एक ही गर्भ से बाहर आए जुड़वां बच्चों का व्यक्तित्व भी अलग-अलग होता है। तो फिर, एक पुरुष और एक स्त्री के बारे में क्या जो वयस्क बनने तक अलग-अलग वातावरण में रहते थे?

भले ही एक दूसरे से प्रेम करने के कारण उन्होंने विवाह किया है, लेकिन एक साथ रहते हुए वे पैसे, अपने बच्चों की पढ़ाई, ससुराल वालों के साथ संबंध, घर के काम, बात करने का तरीका, और हर प्रकार की बातों को लेकर संघर्ष का सामना करते हैं। इस तरह के संघर्ष झगड़ों में बदल जाने का मूल कारण पति-पत्नी के बीच कमजोर रिश्ता है। जब एक पति और पत्नी के बीच समस्या उत्पन्न हो जाती है, जिनका रिश्ता कमजोर होता है, तो वे एक दूसरे पर दोष लगाते हैं, घृणा करते हैं, या एक दूसरे को टालते हैं। लेकिन, वह पति-पत्नी जिनके बीच का रिश्ता मजबूत होता है, वे एक साथ समस्या को हल करने का प्रयास करते हैं।

जैसे कि आप ऊपर की कहानी में देख सकते हैं, इस बात को सही या गलत कहना व्यर्थ होगा कि क्या हमें आलू को नमक के साथ खाना चाहिए या चीनी के साथ। जब कोई व्यक्ति आप से अलग होता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि वह गलत है। क्या हुआ होता अगर पति और पत्नी ने कहा होता, “मैंने हमेशा चीनी के साथ आलू खाए हैं, लेकिन इस बार क्या मैं नमक के साथ खाऊं?” या “वाह, आपके जैसा चीनी के साथ आलू खाऊं, तो वह अधिक स्वादिष्ट होगा।” वे अदालत में नहीं गए होते, बल्कि एक साथ आलू का आनंद लिया होता।

संघर्ष होने पर याद रखने वाली बातें

1. अपने मुंह से ज्यादा अपने कानों का प्रयोग करें

यदि आप दूसरे व्यक्ति की बात सुनने की कोशिश किए बिना केवल वह बोलने की कोशिश करें जो आप कहना चाहते हैं, तो यह केवल संघर्ष को उकसाएगा। बोलने से ज्यादा सुनने की कोशिश करें। यदि आप दूसरे व्यक्ति की बातों पर कान लगाएं, तो आप उसे समझ सकेंगे। केवल दूसरे व्यक्ति की बात समाप्त होने तक सुनने के द्वारा आप झगड़े की आग को फैलने से पहले बुझा सकते हैं।

जब आप बात करते हैं, तो अनुशासित करने या सिर खाने की कोशिश न करें, लेकिन सुनने वाले को अपने विचार या भावनाएं जानने दें। यह कहने के बजाय, “तुम्हें यह करना पड़ेगा,” या “तुम्हारे कारण ऐसा हुआ है,” यह कहने का प्रयास करें, “मैं चाहता हूं कि आप ऐसा करें,” या “जब आपने ऐसा किया, इससे मेरी भावनाओं को ठेस पहुंची।” यदि आप उत्तम पुरुष बनकर बात करें, तो सुननेवालों को आपकी बात सुनना अधिक कोमल लगेगा।

2. उन शब्दों से बचें जो क्रोध को उकसाते हैं

झगड़ा करने के दौरान, एक पति और पत्नी अक्सर झगड़े के मौलिक कारण के बारे में भूल जाते हैं, और दूसरे व्यक्ति की कही बातों से गलती पकड़ने के लिए डटे रहते हैं और एक दूसरे के बारे में बुरी बातें कहते हैं। भले ही संघर्ष गंभीर होने पर आप गुस्सा हो जाएं, ऐसी कुछ चीजें हैं जिनसे आपको बचना चाहिए। आपको दूसरे व्यक्ति की कमजोरियों के बारे में बात नहीं करनी चाहिए जैसे कि दूसरे व्यक्ति का रूप, शैक्षिक पृष्ठभूमि, पारिवारिक पृष्ठभूमि, या पिछली गलतियां, और किसी और के साथ उसकी तुलना। ताने मारते हुए या व्यंग्यात्मक ढंग से आपको बात नहीं करनी चाहिए। बेशक, आपने अभिशाप और अपमानजनक शब्द कहने से बचना चाहिए। अपनी भावनाओं में बहकर, यदि आप जानबूझकर दूसरे व्यक्ति की भावनाओं को चोट पहुंचाते हैं, तो यह आग में घी डालने के बराबर है। आपको सावधान रहना चाहिए कि शब्दों से दूसरे व्यक्ति की भावनाओं को चोट न पहुंचें; वे शब्द सुनने वाले के मन को चोट पहुंचाते हैं, और चोट के निशान लंबे समय तक बने रहते हैं और यह अन्य संघर्ष का कारण बनता है।

3. धीमी आवाज में बात करें

एक बार आप अपनी आवाज उठाते हैं, तो यह अब और संवाद नहीं है, बल्कि झगड़ा बन जाता है। यदि आप ऊंची और क्रोधित आवाज में बात करें, तो संवाद सुचारू रूप से बना नहीं रहेगा बल्कि सुनने वाले को क्रोधित करेगा। लोग कहते हैं कि जब आप कार दुर्घटना में पड़ जाते हैं तो जीत प्राप्त करने के लिए आपकी आवाज भारी होनी चाहिए, लेकिन विवाहित जोड़ों के बीच संघर्ष जीतने या हारने का मामला नहीं है। यहां तक कि अगर आपका पति या पत्नी पहले अपनी आवाज उठाता है, तो आप अपनी आवाज न उठाइए। इसके बजाए, अपनी आवाज धीमी कीजिए और शांत बातचीत करने का प्रयास कीजिए। यदि इससे भी स्थिति नहीं बदल जाता, तो थोड़ी देर के लिए उस जगह को छोड़िए और इस बात का विचार कीजिए कि आप दोनों गुस्से में क्यों आ गए और इस समस्या को कैसे सुलझाएंगे, और फिर से संवाद करने की कोशिश कीजिए।

4. अपने बच्चे के सामने झगड़ा न करें

एक मासूम दर्शक ​को लड़ाई में चोट लग जाती है। पति और पत्नी के बीच झगड़े में सबसे बड़ा शिकार उनका बच्चा है। जब एक बच्चा अपने माता-पिता का झगड़ा देखता है, वह बेहद असहज और भय महसूस करता है और यहां तक कि दोषी भी महसूस कर सकता है। जितनी बार ऐसा होता है, उतना ही एक बच्चे की भावनात्मक रूप से स्थिर रहने की संभावना कम होती है। यदि आपको अपरिहार्य रूप से अपने बच्चे के सामने झगड़ा करना पड़े, तो उसे समझाइए कि मम्मी और पापा के बीच कुछ असहमति है इसलिए एक समझौते पर आने की कोशिश कर रहे हैं।

5. संघर्ष को लंबे समय तक न रखें

पर्सी एरोस्मिथ (105वर्षीय) और उसकी पत्नी, जिन्होंने 2005में इंग्लैंड में सबसे लंबी शादीशुदा जीवन का रिकॉर्ड तोड़ दिया, उन्होंने 80 वर्ष के सुखी विवाहित जीवन के अपने रहस्य के बारे में ऐसा बताया कि जितनी बार हो सके उतनी बार यह कहना “मैं आपसे प्रेम करता हूं,” या “माफ कीजिए।” और जब भी उनके बीच झगड़ा होता था, वे सोने से पहले किसी भी तरह से एक दूसरे से मेल-मिलाप करते थे।​

लंबे समय तक झगड़ा जारी रखना अच्छी बात नहीं है। पति और पत्नी के बीच अपना आत्माभिमान की रक्षा करने से या अकड़ दिखाकर खड़े रहने से कुछ भी प्राप्त नहीं होगा। जैसे लोग कहते हैं, “हार में ही जीत है,” अपने जीवनसाथी की राय को स्वीकार करके पहले मेल-मिलाप करने की कोशिश कीजिए।

एक पति और पत्नी को अपने जीवन भर एक दूसरे के अंतरों का आदर करके उन्हें समझना है। यदि आप अपने आपको न बदलकर अपने जीवनसाथी को बदलने की कोशिश करें, तो झगड़ा कभी खत्म नहीं होगा। वैवाहिक स्थिरता और रिश्ते पर उनके काम के लिए परिचित एक प्रोफेसर, जॉन गॉटमैन कहता है कि विवाहित जोड़ों में 70% झगड़ों में कोई समाधान नहीं है। तब वे इतनी सारी समस्याओं को लेकर एक साथ कैसे रह सकते हैं? इसका जवाब आसान है। आपको बस इतना करना है कि अपने पति या पत्नी को ऐसा स्वीकार करें जैसा वह है। बेशक, यदि आपके पति या पत्नी को कोई समस्या है जो आपके वैवाहिक जीवन को नष्ट कर सकती है, तो इसे ठीक किया जाना चाहिए। लेकिन, मामूली मामलों के लिए, आपको ऐसा सोचकर कि ‘यह कोई बड़ी बात नहीं है,’ अपना बड़ा मन दिखाना चाहिए।

​आपको अपने पति या पत्नी की देखभाल और रक्षा करनी चाहिए। जब आपका पति या पत्नी खुश रहे, तो आप भी खुश रह सकते हैं। पति और पत्नी देह और आत्मा में एक होते हैं, है न? हमारे पास एक-दूसरे से प्रेम करने के लिए भी पर्याप्त समय नहीं होता, तो आइए हम एक दूसरे की गलतियों को ढकें और एक दूसरे की कमियों को पूरा करने में मदद करें और खुशियों से भरा परिवार बनाएं।