WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

प्रेम भरी आवाज में अपने परिवारवालों को बुलाएं

465 देखे जाने की संख्या

एक दिन में आप अपने परिवारवालों को कितनी बार बुलाते हैं? यदि आप किसी को बुला सकते हैं और आपके पास कोई है जो आपको बुलाता है, तो यह एक सुखद बात है। बुलाने का मतलब ढूंढ़ना है, इसलिए यह बताता है कि हम अकेले नहीं हैं लेकिन दूसरों के साथ संबंधित हैं।

एक कवि ने कहा, “जब मैंने उसका नाम बुलाया, तो वह मेरे पास आकर एक फूल बन गया।” लेकिन, वह एक सुंदर फूल बनेगा या एक सूख जाने वाला फूल बनेगा, यह इस पर निर्भर होता है कि आप उसे कैसे बुलाते हैं। जब कोई आपको हर्ष भरी आवाज में बुलाता है तो आप अच्छी तरह से जवाब देना चाहेंगे, लेकिन अगर कोई आपको तेज और चिड़चिड़ी आवाज में बुलाता है तो आप अच्छी तरह से जवाब देना नहीं चाहेंगे।

एक व्यक्ति का मन उसकी आवाज में समाया हुआ है। कृपया अपने बहुमूल्य परिवारवालों को प्रेम से भरे मन के साथ बुलाइए। तब वे खूबसूरत फूल बन जाएंगे जो अच्छी सुगंध फैलाते हैं।

टिप्स
अपने परिवारवालों को प्यारी आवज में बुलाएं।
स्नेह और हर्ष भरी आवाज में बुलाएं।
उस नाम से बुलाएं जो वे सुनना चाहते हैं।
“तू” जैसे शब्दों से न बुलाएं।
नाम के आगे अतिरिक्त विवरण जोड़ें।
(उदाहरण: ‘मेरे प्रिय ( )’, ‘प्यारा ( )’, ‘मेरा एकमात्र ( )’, इत्यादि )
सावधान रहें कि कहीं आप उन्हें नकारात्मक भावनाओं से न बुलाएं।