WATV.org is provided in English. Would you like to change to English?

13 मई, 2020

मां और स्ट्रोबेरी

गुमी, कोरिया से पार्क उन जा

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS

मेरे बचपन में मेरा परिवार बहुत गरीब था। जब मेरे परिवार के छह सदस्य एक कमरे में सोते थे, तो हम एक दूसरे से बेहद करीब लेटकर सोते थे कि हमारे पास पलटने के लिए कोई जगह नहीं होती थी। मेरे माता-पिता ने अपने चार बच्चों का पालन-पोषण करने के लिए दूसरों की जमीन किराए पर लेकर खेती किया था।

एक दिन, मैं इतनी बीमार थी कि मैंने अपनी मां को बताया कि मैं स्कूल में अनुपस्थित रहना चाहती हूं। उसने मुझे अनुपस्थित न होने के लिए कहा क्योंकि घर पर अकेले रहने के दौरान मेरा ख्याल रखने के लिए कोई नहीं था, और मुझे स्कूल जाने के लिए मजबूर किया। दो घंटों तक चलने के बाद जब मैं स्कूल पहुंची, तो मैं इतनी बीमार हो गई थी कि मैंने अपना सिर मेज पर उतारकर रख दिया था। मेरी हालत देखकर, मेरी शिक्षिका ने मुझे घर भेजना चाहा। लेकिन मैंने वापस दो घंटे चलकर घर नहीं जाना चाहा, तो उससे कहा कि परिचर्या-कक्ष में आराम करना बेहतर होगा। लेकिन मेरी हालत और खराब हो गई और स्कूल खत्म होने के बाद भी मेरे पास खड़े होने की कोई ताकत नहीं थी।

उस समय, अप्रत्याशित रूप से मेरी मां पसीने से लथपथ होकर स्कूल में आ गई। बाद में मुझे पता चला कि मेरी शिक्षिका ने मकान मालकिन को फोन किया और उसने मेरी मां को मेरी हालत के बारे में बताया। मैं अपनी मां की गीली पीठ पर लदकर घर वापस आ गई और तीन दिन तक बिस्तर पर पड़ी रही। मेरी मां को खेद महसूस हुआ होगा कि उसने अपनी बीमार बेटी को स्कूल जाने के लिए मजबूर किया था; उसने मुझसे पूछा कि मैं क्या खाना चाहती हूं। चाहे खिचड़ी निगलना भी मेरे लिए मुश्किल था, मैंने कहा कि मैं स्ट्रोबेरी खाना चाहती हूं।

उस समय, स्ट्रोबेरी इतनी महंगी थी कि केवल अमीर लोग वह खा सकते थे। सबसे बदतर बात यह थी कि वह समय स्ट्रोबेरी का मौसम नहीं था। इसे खोजना सच में मुश्किल रहा होगा, लेकिन जैसे ही उसने मेरी इच्छा सुनी, वह मेरे लिए काफी सारी स्ट्रोबेरी खरीदकर आई। जब मेरी बहनें बाहर थीं, तब मेरी मां चुपके से मेरे लिए स्ट्रोबेरी ले आई, और उसने मुझे जल्दी से खाने को कहा। स्वादिष्ट स्ट्रोबेरी देखकर, मैं अपनी बीमारी के बारे में भूल गई और मैंने एक भी छोड़े बिना उन्हें जल्दी-जल्दी निगल लिया। अगर मैंने कहा होता, “मां, कृपया आप भी थोड़ा खा लीजिए,” तो मुझे उसके लिए इतना अफसोस महसूस नहीं हुआ होता।

आज, स्ट्रोबेरी एक साधारण फल है। इसके बावजूद, हर स्ट्रोबेरी के मौसम में, मेरी मां अभी भी एक टोकरी भर स्ट्रोबेरी खरीदती है और मेरे हाथों में थमा देती है। क्या वह याद जो मेरे मन में खेदजनक रूप में बसी हुई, मेरी मां के मन में भी एक खेदजनक बात बन गई है?

FacebookTwitterEmailLineKakaoSMS